501 पर्यायवाची शब्द 😉 Paryayvachi Shabd in Hindi 😫

501 पर्यायवाची शब्द 😉 Paryayvachi Shabd in Hindi 😫
Rate this post

पर्यायवाची शब्द का मतलब है- समान। यानी समान अर्थ व्यक्त करने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं। इसके प्रयोग से भाषा में सुंदरता और चमत्कार पैदा हो जाता है। छात्रों का शब्द भंडार बढ़ता है। अतः इस का ज्ञान होना आवश्यक इसलिए आज हम आप सभी के लिए लाये है Paryayvachi Shabd हिंदी भाषा में क्योकि अपनी ये पर्यायवाची शब्द हिंदी में ही अच्छे लगते है

501 पर्यायवाची शब्द 😉 Paryayvachi Shabd in Hindi 😫

Paryayvachi Shabd

1 अंगूर द्राक्षा , दाख , इंगुर .
2 आम आम्र ,रसाल ,कामशर .
3 अंधकार तिमिर , अँधेरा , तम।
4 आग  अग्नि,अनल,पावक ,दहन,ज्वलन,धूमकेतु,कृशानु ।
5 अच्छा उचित , शोभन , उपयुक्त , शुभ , सौम्य।
6 अजेय अजित , अपराजित , अपराजेय।
7 अतिथि पाहून, आंगतुक , अभ्यागत , मेहमान।
8 अनुचर नौकर , दास , सेवक , परिचारक।
9 अनुपम अनूठा , अनोखा , अपूर्व , निराला , अभूतपूर्व।
10 अन्य पृथक , और , भिन्न ,दूसरा।
11 अनाज शस्य , अन्न , धान्य।
12 अरण्य विपिन , वन , कानन , कान्तार , जंगल।
13 आभूषण विभूषण , भूषण , गहना , अलंकार।
14 आज्ञा हुक्म , आदेश , निर्देश।
15 अमृत सुधा,अमिय,पियूष,सोम,मधु,अमी।
16 असुर दैत्य,दानव,राक्षस,निशाचर,रजनीचर,दनुज।
17 अश्व वाजि,घोडा,घोटक,रविपुत्र ,हय,तुरंग .
18 आम रसाल,आम्र,सौरभ,मादक,अमृतफल,सहुकार ।
19 अंहकार  गर्व,अभिमान,दर्प,मद,घमंड।
20 आँख  लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि।
21 आकाश  नभ,गगन,अम्बर,व्योम, अनन्त ,आसमान।
22 आनंद  हर्ष,सुख,आमोद,मोद,प्रमोद,उल्लास।
23 आश्रम  कुटी ,विहार,मठ,संघ,अखाडा।
24 आंसू  नेत्रजल,नयनजल,चक्षुजल,अश्रु ।
25 इंतकाल  देहांत , निधन , मृत्यु ,अन्तकाल।
26 इंदु  चाँद , चंद्रमा, चंदा , राकेश।
27 इंसान  मनुष्य , आदमी , मानव , मानुष।
28 इन्साफ  न्याय , फैसला , अदल।
29 इजाजत  स्वीकृति , मंजूरी , अनुमति।
30 इज्जत  मान , प्रतिष्ठा , आदर , आबरू।
31 इनाम  पुरस्कार , पारितोषिक , बख्शीश।
32 इल्जाम  आरोप , लांछन ,दोषारोपण , अभियोग।
33 इंद्र देवराज,सुरेन्द्र ,सुरपति ,अमरेश ,देवेन्द्र ,वासव ,सुरराज ,सुरेश .
34 इन्द्राणी इंद्रवधु,शची,पुलोमजा .
35 ईश्वर  भगवान,परमेश्वर,जगदीश्वर ,विधाता।
36 इच्छा  अभिलाषा,चाह,कामना,लालसा,मनोरथ,आकांक्षा ।
37 उन्नति प्रगति , विकास , उत्कर्ष , अभ्युदय , उत्थान , वृद्धि।
38 उत्साह आवेग , जोश , उमंग।
39 उद्यान बाग़ , कुसुमाकर , वाटिका , उपवन , बगीचा।
40 ओंठ ओष्ठ,अधर,होठ।
41 कमल पद्म,पंकज,नीरज,सरोज,जलज,जलजात ।
42 कल सुन्दर , अगला दिन , मशीन , आराम , श्रेष्ठ।
43 कपड़ा चीर , ,पट , वसन , अम्बर , वस्त्र।
44 कनक गेंहू का आटा , स्वर्ण , धतूरा , सोना।
45 कृषक हलवाहा , किसान , कृषिजीवी , खेतिहर।
46 कान श्रवण , श्रुतिपट , कर्ण , श्र्वानेंद्रिय।
47 कोमल नाजुक , नरम , मृदु , सुकुमार , मुलायम।
48 कोष भंडार , ख़जाना , निधि।
49 कोयल वनप्रिय , पिक , कोकिला , काक्पाली , वसंतदूत।
50 किरण मरीचि , कर , अंशु , रश्मि , मयूख।
51 किनारा कगार , कूल , तट , तीर।
52 कृपा प्रसाद,करुणा,दया,अनुग्रह।
53 खल अधम , दुर्जन , दुष्ट , कुटिल , नीच।
54 गाय गौ,धेनु,सुरभि,भद्रा ,रोहिणी।
55 गधा गर्दभ ,खर,धूसर ,शीतलावाहन,चक्रीवान.
56 चरण पद,पग,पाँव, पैर ।
57 चातक सारन,मेघजीवन ,पपीहा ,स्वातीभक्त .
58 कंगन कड़ा, चूडा , वलय , कंकड़ .
59 करघनी कमरबंद ,किंकिणी, तगड़ी .
60 काजल काज़र , कज्जल , अंजन ,सुरमा .
61 किताब पोथी ,ग्रन्थ ,पुस्तक ।
62 कपड़ा चीर,वसन, पट ,वस्त्र ,अम्बर ,परिधान ।
63 कामदेव मन्मथ ,मनोज,काम,मार ,कंदर्प,अनंग ,मनसिज ,रतिनाथ ,मीनकेतू.
64 कुबेर किन्नरपति , किन्नरनरेश ,यक्षराज ,धनाधिप ,धनराज ,धनेश .
65 किरण ज्योति, प्रभा,रश्मि, दीप्ति, मरीचि ।
66 किसान  कृषक ,भूमिपुत्र ,हलधर ,खेतिहर ,अन्नदाता ।
67 कृष्ण राधापति ,घनश्याम ,वासुदेव , माधव, मोहन ,केशव ,गोविन्द ,गिरधारी ।
68 कान कर्ण ,श्रुति ,श्रुतिपटल ।
69 कल्पवृक्ष कल्पतरु ,देवतरु,कल्पलता ,देववृक्ष ,पारिजात .
70 गंगा देवनदी ,मंदाकनी,भगीरथी ,विश्नुपगा, देवपगा ,ध्रुवनंदा ।
71 गणेश गजानन , गौरीनंदन , गणपति , गणनायक , शंकरसुवन ,लम्बोदर ,महाकाय।
72 कोयल कोकिला , पिक , काकपाली, बसंतदूत ।
73 क्रोध रोष , कोप , अमर्ष , कोह , प्रतिघात ।
74 गज हाथी , हस्ती , मतंग , कूम्भा, मदकल ।
75 गुरु शिक्षक , बड़ा , भारी , वृहस्पति .
76 ग्रीष्म ताप , घाम , निदाघ , गर्मी .
77 गृह घर , सदन , गेह ,भवन, धाम , निकेतन ,निवास ।
78 घटना  हादसा , वारदात , वाकया.
79 घन  मेघ , बादल, घटा , अम्बुद , अम्बुधर .
80 घपला  गड़बड़ी ,गोलमाल , घोटाला .
81 घमंड  दंभ , दर्प , गर्व , गरूर , अभिमान .
82 घर  गृह , धाम , गेह,बसेरा .
83 घुड़सवार  अश्वारोही , तुरंगी ,तुरंगारूढ़.
84 घुमक्कड़  भ्रमणशील ,पर्यटक , यायावर .
85 घूस घूस, रिश्वत ,उत्कोच .
86 घोड़ा  तुरंग , हय , घोट ,घोटक,अश्व .
87 चंद्रमा चन्द्र , शशि , हिमकर , राकेश , रजनीश , निशानाथ , सोम , मयंक , सारंग , सुधाकर , कलानिधि ।
88 चतुर  चालाक , कुशल , पटु , नागर , दक्ष ,प्रवीण .
89 छंटनी  कटौती , छंटाई , काट
90 छटा  शोभा , छवि , सुन्दरता ,खूबसूरती .
91 छल  दगा , ठगी , फरेब , छलावा .
92 छाछ  माहि , माठा, लस्सी , छाछी.
93 छाती  सीना , वक्ष , उर .
94 छुटकारा  मुक्ति , रिहाई ,निजात .
95 जल वारि , नीर , तीय ,अम्बु , उदक , पानी ,जीवन , पय, पेय ।
96 जहाज  पोत , जलयान .
97 जंगल विपिन , कानन , वन, अरण्य, गहन ।
98 जमुना सूर्यसुता ,कृष्णा, अर्कजा ,रवितनया ,कालिंदी .
99 जीभ रसना ,वाणी ,गिरा ,रसज्ञा.
100 झंडा  फरहरा , ध्वज , पताका , निशान .
101 झरना  प्रताप , उत्स , निर्झर , सोता , श्रोत .
102 झूठ असत्य , मिथ्या, मृषा, अनृत ।
103 तन  काया , तनु ,  शरीर , देह , कलेवर .
104 तरु विटप, पादप , पेड़ ,द्रुम, वृक्ष .
105 तात परम , प्यारा , पूज्य , पिता .
106 तालाब सरोवर , जलाशय , सर, पुष्कर , पोखरा, जलवान , सरसी ।
107 तलवार असि,करवाल ,कृपाण,खडग ,शायक,चंद्रहास .
108 तीर वाण,सर ,नाराच ,विहंग शिलिमुख .
109 तोता सुग्गा ,शुक ,सुआ,कीर ,दाड़िमप्रिय .
110 दास सेवक , नौकर , चाकर , परिचारक , अनुचर ।
111 दरिद्र निर्धन , गरीब , रंक , कंगाल , दीन।
112 दिन दिवस, याम , दिवा, वार, प्रमान।
113 दुःख पीड़ा ,कष्ट , व्यथा , वेदना , संताप , शोक , खेद , पीर, लेश ।
114 दूध दुग्ध , क्षीर , पय ।
115 दुष्ट पापी , नीच , दुर्जन , अधम , खल , पामर ।
116 दर्पण शीशा , आरसी , आईना , मुकुर ।
117 दांत दन्त ,दसन ,रद .
118 दुर्गा चंडिका , भवानी , कुमारी , कल्याणी , महागौरी , कालिका , शिवा ।
119 देवता सुर, देव, अमर , वसु , आदित्य , लेख ।
120 धनुष धनुही ,धनु ,सारंग ,चाप ,शरासन .
121 धन दौलत , संपत्ति , सम्पदा, वित्त ।
122 धरती पृथ्वी , भू, भूमि , धरणी, वसुंधरा , अचला , मही, रत्नवती , रत्नगर्भा ।
123 ध्वनि स्वर ,आवाज ,आहट .
124 नदी सरिता , तटीना , सरि, सारंग , जयमाला ।
125 नया नूतन , नव, नवीन , नव्य।
126 नरक यमलोक ,यमालय ,दुर्गति ,कुम्भीपाक .
127 नित्य सदा ,सर्वदा ,सतत ,निरंतर .
128 निरादर अपमान ,उपेक्षा ,अवहेलना ,तिरस्कार ,अवज्ञा .
129 नाव नौका ,बेडा , तरणी,जलयान ,जलवाहन.
130 पवन वायु , हवा, समीर , वात , मारुत , अनिल, पवमान ।
131 पहाड़ पर्वत , गिरी , अचल , नग, भूधर , महीधर ।
132 पक्षी खग, चिडिया , गगनचर , पखेरू , विहंग , नभचर ।
133 पानी जल ,नीर ,वारि ,सलिल ,अंबु.
134 पार्वती उमा,गिरिजा ,गौरी ,शिवा ,भवानी ,अम्बिका .
135 पति स्वामी , प्राणाधार , प्राणप्रिय, प्राणेश, आर्यपुत्र।
136 पत्नी गृहणी , बहु , वनिता , दारा, जोरू ,वामांगिनी ।
137 पुत्र बेटा , आत्मज, वत्स , तनुज , तनय, नंदन ।
138 पुत्री बेटी, आत्मजा , तनूजा, सुता , तनया ।
139 पुष्प फूल , सुमन , कुसुम , मंजरी , प्रसून ।
140 फल मीजान,बीजकोश,पुष्पाण्ड,प्रभुभोज,सस्य,रसाबाद, फर,पुष्पज.
141 पृथ्वी धरती ,धरा ,भू ,भूमि ,जमीन,वसुंधरा ,धरणी .
142 प्रतीक  संकेत , निशानी ,लक्षण.
143 प्रधान  मुख्य , प्रमुख , वरिष्ठ.
144 प्रयत्न  चेष्टा , प्रयास ,कोशिश ,उद्दम.
145 प्रसिद्ध  मशहूर ,विख्यात ,बहुचर्चित.
146 प्राण  जान ,जीव.
147 फूल  सुमन ,कुसुम ,पुष्प.
148 फ़ौरन  तत्काल , तुरंत ,तत्क्षण.
149 बचपन  बाल्यपन ,लड़कपन ,छुटपन.
150 बल  ताकत ,शक्ति , सत्व , जोर .
151 बाधा  विघ्न , रुकावट , रोड़ा ,
152 बाण  तीर , शर, विहंग , शलाका .
153 ब्राह्मण  द्विज , विप्र , भूदेव .
154 बुद्धिमत्ता  बुद्धिमानी , होशियारी , चतुरता , अक्लमंदी .
155 भाग्य  किस्मत , तकदीर , प्रारब्ध ,नसीब .
156 भाषण  वक्तव्य , व्याख्यान ,उपदेश
157 भ्रमर  अलि, मधुप , मधुकर , भृंग ,भौरा
158 मदद  सहयोग , सहायता , योगदान
159 मन  अन्तकरण ,चित्त , दिल , मानस
160 मनोवृति  आचरण वृति , प्रवृति , मानसिकता
161 मित्र  सखा , सहचर , साथी ,दोस्त
162 मूल्य  मोल , कीमत , कदर ,लागत ,दाम ,दर .
163 मृत्यु  मौत , देहांत ,निधन ,अंत ,स्वर्गवास.
164 मोक्ष  मुक्ति , निर्वाण , कैवल्य ,परम्पद .
165 मछली  मीन ,मतस्य ,झष ,जलचरी .
166 मरू  रेगिस्तान, मरुस्थल, ऊसर.
167 मर्मज्ञ  मर्मवेदी , मर्मविद, तत्वज्ञ.
168 मर्यादा  आचार, सीमा , रीति रेखा , सदाचार.
169 महत्व  बड़प्पन, बड़ाई, गुरुता , महिमा ,महत्ता .
170 मोर  मयूर , केकी ,शिखी ,कलापी.
171 बकरी  छेरी , छागी ,अजा .
172 बादल मेघ, घन , जलधर , जलद, वारिद, नीरद , सारंग ।
173 बालू रेत , बालुका , सैकत ।
174 बन्दर वानर , कपि, कपीश, हरि।
175 बिजली घनप्रिया , इन्द्र्वज्र, चपला , दामिनी , ताडित, विद्युत ।
176 ब्रह्मा अज ,विधि ,विधाता ,प्रजापति ,निर्माता ,धाता ,चतुरानन ,प्रजाधिप .
177 बाण तीर ,शर ,सायक ,शिलीमुख .
178 विष जहर , हलाहल , गरल , कालकूट ।
179 वृक्ष पेड़ , पादप , विटप , तरु , गाछ ।
180 विष्णु नारायण , दामोदर , पीताम्बर , चक्रपाणी ।
181 भूषण जेवर , गहना, आभूषण , अलंकार ।
182 भौरा भ्रमण ,भँवरा,भृंग ,मिलिंद ,सारंग ,मधुप .
183 माला कंठहार , हार , तस्बीह .
184 महेश महादेव ,नीलकंठ ,चंद्रशेखर ,गंगाधर ,रूद्र ,शिव ,विश्वनाथ .
185 मनुष्य आदमी , नर, मानव, मानुष , मनुज ।
186 मदिरा शराब , हाला, आसव, मधु, मद।
187 मोर केक , कलापी, नीलकंठ , नर्तकप्रिय ।
188 मधु शहद , रसा, शहद, कुसुमासव ।
189 मृग हिरण, सारंग , कृष्णसार।
190 मछली मीन , मत्स्य , जलजीवन , शफरी , मकर ।
191 मूर्ख गँवार,अल्पमति ,अज्ञानी ,अपढ़ ,जड़ .
192 मृत्यु देहांत ,मौत , अंत ,स्वर्गवास ,मरण .
193 मोक्ष मुक्ति ,परधाम ,निर्वाण , परमपद ,अपवर्ग .
194 यमराज धर्मराज ,यम ,अन्तक ,सूर्यपुत्र, दंडधर .
195 यंत्र  मशीन , कल , उपकरण ,औजार .
196 यंत्रणा  क्लेश , यातना , वेदना , पीड़ा , दुःख .
197 यकायक  अचानक , एकाएक , सहसा .
198 यज्ञ  याग , मख , हवन , होम , अनुष्ठान .
199 यति  सन्यासी , तपस्वी , तापस , विराम .
200 यत्न  कोशिश ,प्रयत्न , प्रयास ,उपचार .
201 यथार्थ  ठीक , उचित , सत्य , असली , सही .
202 यथेष्ट  अभीष्ट , इच्छानुसार , मनमाना .
203 यमुना  सुर्यसुता, सूर्य तनया , स्वसा ,कृष्णा , हंससुता .
204 यश  ख्याति , शोहरत , नेकनामी , कीर्ति , नाम .
205 यशोदा  नंदरानी , यशोमती , महरि .
206 याचना  प्रार्थना पत्र , आवेदन पत्र, अभ्यर्थनापत्र .
207 यात्रा  सफ़र , देशाटन , सैर , भ्रमण .
208 याद  स्मरण ,स्मृति , सुधि .
209 यान  वाहन , सवारी , विमान .
210 युक्ति  उपाय , ढंग , प्रवीणता , चतुराई .
211 युद्ध  रण ,जंग , समर , समाघात .
212 युवक  युवा , तरुण , जवान , नौजवान .
213 युवती  तरुणी , बाला , कुमारी , रमणी .
214 योग  मेल , मिलाप , संयोग , संपर्क , तपस्या .
215 योग्य  सक्षम , कुशल , समर्थ , उपयुक्त .
216 योजना  परिकल्पना , रुपरेखा , कार्यसाधन .
217 यौवन  युवावस्था , जवानी , जोबन , तारुण्य .
218 रंक  गरीब ,दरिद्र , कंगाल ,निर्धन .
219 रंगीला  रसिया ,रसिक ,छैला ,मौजी .
220 रक्त  रुधिर , लहू ,खून , रक्तिम .
221 रक्षा  संरक्षण , सुरक्षा , प्रतिरक्षा , बचाव .
222 रजनी  रात , रात्रि , निशा , यामिनी .
223 रण  लड़ाई , युध्य , संग्राम , समर , जंग .
224 रत  अनुरक्त , आसक्त , लिप्त ,निमग्न .
225 रत्ती  जरा सा , थोड़ा सा ,रत्तीभर .
226 रत्नाकर  समुन्द्र ,सागर , पारावार , वारिध .
227 रमण स्त्री प्रसंग , मैथुन . सम्भोग , रतिविलास .
228 रम्य  सुन्दर , मनोरम , आकर्षक .
229 रस  जूस , रस , शोरबा ,अनुराग ,उमंग .
230 राका  पूर्णमासी , पूर्णिमा , पूनम , पूनो .
231 राक्षस  निशाचर , निशिचर ,मनुजाद , दैत्य ,दानव .
232 राजा  महिपाल , भूपाल , नरेश , पार्थ , सम्राट .
233 राधा  राधिका , हरिप्रिया , ब्रजरानी , वृषभानुजा .
234 रानी  स्वामिनी , मालकिन , बेगम , राजपत्नी .
235 राय  मत , सम्मति , सलाह , धारणा , विचारणा .
236 रूचि  चाह , इच्छा , अभिलाषा , कामना , पसंद .
237 रोग  व्याधि , बीमारी , मर्ज़ , रुग्णता .
238 रोज़गार  कारोबार , पेशा , जीविका , काम , व्यापार .
239 रोटी  चपाती , फुलकी , फुल्का .
240 रोम  बाल , लोम , रोयाँ .
241 रात रात्रि, रैन , रजनी , निशा , यामिनी , तमी, निशि , यामा।
242 राजा नृप, भूप, भूपाल , नरेश , महीपति , अवनीपति ।
243 लंका लंकपुरी , रावणपूरी , सिंहलद्वीप , स्वर्णपुरी .
244 लंगडा अपाहिज , अपांग , पंगु , लुंज , लूका .
245 लकुटिया छड़ी , डंडा , लकुटी , लाठी ,सोटा .
246 लक्ष्मण अनंत , शेषावतार , सौमित्र ,रामानुज , अहिश .
247 लगाम रास , बागडोर , बाग़ , कुशा , मुखरी .
248 लहर तरंग ,मौज , उर्मि, हिलकोर.
249 लाभ मुनाफा , फायदा , नफा , बचत , बरकत .
250 लाम सेना , फौज , आर्मी , बिग्रेड .
251 लुब्धक बहेलिया , आखेटक , शिकारी , अहेरी ,व्याध .
252 लोहा लौह , इस्पात , फौलाद , अयस ,रुक्म .
253 लक्ष्मी कमला , पद्मा , रमा, हरिप्रिया , श्री , इंदिरा ।
254 विवाह शादी ,गठबंधन ,परिणय ,व्याह ,पाणिग्रहण .
255 समूह गण,झुण्ड ,संघ ,वृन्द ,समुदाय .
256 वायु पवन ,अनिल ,समीर, हवा ,वात .
257 वस्त्र कपडा , वसन ,अम्बर ,परिधान ,पट .
258 विष जहर ,हलाहल ,माहुर ,गरल ,कालकूट .
259 साँप सर्प , नाग , विषधर , उरग , पवनासन।
260 शिव भोलेनाथ ,शम्भू, त्रिलोचन , महादेव, नीलकंठ , शंकर।
261 सीताफल काशीफल ,कुम्हड़ा ,पेठा.
262 सूर्य रवि , सूरज , दिनकर, प्रभाकर, आदीत्य, भास्कर , दिवाकर।
263 संसार जग, विश्व , जगत , लोक , दुनिया ।
264 शरीर देह , तनु , काया , कलेवर , अंग , गात ।
265 सोना स्वर्ण , कंचन, कनक , हेम , कुंदन ।
266 स्त्री अबला ,नारी ,महिला ,रमणी ,दारा,कान्ता.
267 सिंह केशरी, शेर, महावीर, नाहर, सारंग , मृगराज ।
268 सेना वाहिनी ,कटक ,चमू .
269 समुद्र सागर, पयोधि, उदधि , पारावार, नदीश ,जलधि ।
270 हनुमान महावीर ,पवनसुत ,रामदूत ,मारुती ,कपीश ,बजरंगबली .
271 हर्ष आनंद ,प्रसन्नता ,प्रमोद ,सुख ,आमोद .
272 हाथी गज ,सिंघु ,हस्ती ,नाग ,मतंग,गजेन्द्र .
273 शत्रु रिपु , दुश्मन , अमित्र , वैरी ।
274 हिमालय हिमगिरी , हिमाचल , गिरिराज , पर्वतराज , नगेश।
275 ह्रदय छाती , वक्ष , वक्षस्थल , हिय , उर ।
276 हंस मराल , सारंग ,राजहंस ,धवलपक्ष
277 हक़ अधिकार , दावा ,कब्ज़ा ,प्रभुत्व .
278 हत आहत , घायल ,हताहत .
279 हलफ़ कसम , सौगंध , शपथ
280 हाकिम शासक , शासनकर्ता ,प्रशासनकर्ता .
281 हाटक सोना , कंचन , कुंदन , हेम ,कनक .
282 हाला शराब , दारु , सुरा , मय.
283 हिज्र वियोग , विरह , जुदाई ,विछोह .
284 हिब्बा दान , खैरात , जकात .
285 हिमकूट जाड़ा ,सर्दी ,शीतकाल .
286 हिमारि आग , अग्नि , अनल ,पावक .
287 हिरास भय , डर , दहशत ,खौफ .
288 हूँस पीड़ा , दर्द , टीस, कसक .
289 हेमकार सुनार , स्वर्णकार , सोनार ,जौहरी .
290 हेमतरु धतूरा ,कंटकफल , कनक ,मंदार .
291 हेमरागिनी हरिता , हल्दी , कावेरी , भद्रा .
292 हेमल छिपकली ,पल्ली , बिस्तुइया .
293 हेमा भू , भूमि , धरा , धरती ,वसुधा ,वसुंधरा ,पृथ्वी .
294 हेरंब गणेश , गणपति , एकदंत , गणनायक .
295 हैदर शेर , सिंह , केसरी , केहरी , वनराज .
296 होड़ प्रतियोगिता , स्पर्धा , मुकाबला ,प्रतिद्वंदिता .
297 अंधकार तम, तिमिर, अँधेरा, तमस, अंधियारा.
298 आम रसाल, आम्र, सौरभ, अमृतफल.
299 आंसू नेत्रजल, नयनजल, चक्षुजल, अश्रु.
300 आत्मा जीव, चैतन्य, चेतनतत्तव, अंतःकरण.
301 आग अग्नि, अनल, हुतासन, पावक, कृशानु, वहनि, शिखी, वह्नि.
302 आँख लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृष्टि.
303 आकाश नभ, गगन, अम्बर, व्योम, आसमान, अर्श.
304 आनंद हर्ष, सुख, आमोद, मोद, प्रमोद, उल्लास.
305 आश्रम कुटी, विहार, मठ, संघ, अखाड़ा.
306 अग्नि आग, अनल, पावक.
307 अपमान अनादर, अवज्ञा, अवहेलना, तिरस्कार.
308 अलंकार आभूषण, गहना, जेवर.
309 अहंकार दंभ, अभिमान, दर्प, मद, घमंड.
310 अमृत सुधा, अमिय, पीयूष, सोम.
311 असुर दैत्य, दानव, राक्षस, निशाचर, रजनीचर, दनुज, रात्रिचर, तमचर.
312 अतिथि मेहमान, अभ्यागत, आगन्तुक.
313 अनुपम अपूर्व, अतुल्य, अनोखा, अद्भुत, अनन्य.
314 अर्थ धन, द्रव्य, मुद्रा, दौलत, वित्त, पैसा.
315 अश्व हय, तुरंग, घोड़ा, घोटक, बाजि, सैन्धव.
316 इच्छा अभिलाषा, चाह, कामना, लालसा, मनोरथ, आकांक्षा, अभीष्ट.
317 इन्द्र सुरेश, सुरेन्द्र, देवेन्द्र, सुरपति, शक्र, पुरंदर, देवराज, महेन्द्र, शचीपति.
318 इन्द्राणि इन्द्रवधू, मधवानी, शची, शतावरी, पोलोमी.
319 ईश्वर परमात्मा, प्रभु, ईश, जगदीश, भगवान, परमेश्वर, जगदीश्वर, विधाता.
320 उपवन बाग़, बगीचा, उद्यान, वाटिका, गुलशन.
321 उक्ति कथन, वचन, सूक्ति.
322 उग्र प्रचण्ड, उत्कट, तेज, तीव्र, विकट.
323 उचित ठीक, मुनासिब, वाज़िब, समुचित, युक्तिसंगत, न्यायसंगत, तर्कसंगत.
324 उच्छृंखल उद्दंड, अक्खड़, आवारा, निरकुंश, मनमर्जी, स्वेच्छाचारी.
325 उज्जड़ अशिष्ट, असभ्य, गँवार, जंगली, देहाती, उद्दंड, निरकुंश.
326 उजला उज्ज्वल, श्वेत, सफ़ेद, धवल.
327 उजाड़ जंगल, बियावान, वन.
328 उजाला प्रकाश, रोशनी, चाँदनी.
329 उत्कर्ष समृद्धि, उन्नति, प्रगति, उठान.
330 उत्कृष्ट उत्तम, उन्नत, श्रेष्ठ, अच्छा, बढ़िया, उम्दा.
331 उत्कोच घूस, रिश्वत.
332 उत्पत्ति उद्गम, पैदाइश, जन्म, उद्भव, सृष्टि, आविर्भाव, उदय.
333 उद्धार मुक्ति, छुटकारा, निस्तार.
334 उपाय युक्ति, साधन, तरकीब, तदबीर, यत्न, प्रयत्न.
335 ऊधम उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी.
336 ऐक्य एकत्व, एका, एकता, मेल.
337 ऐश्वर्य समृद्धि, विभूति.
338 ओज तेज, शक्ति, बल, वीर्य.
339 ओंठ ओष्ठ, अधर, होंठ.
340 औचक अचानक, यकायक, सहसा.
341 औरत स्त्री, जोरू, घरनी, घरवाली.
342 किसान कृषक, भूमिपुत्र, हलधर, खेतिहर, अन्नदाता.
343 कृष्ण राधापति, घनश्याम, वासुदेव, माधव, मोहन, केशव, गोविन्द, गिरधारी.
344 कान कर्ण, श्रुति, श्रुतिपटल, श्रवण श्रोत, श्रुतिपुट.
345 कोयल कोकिला, पिक, काकपाली, बसंतदूत, सारिका, कुहुकिनी, वनप्रिया.
346 क्रोध रोष, कोप, अमर्ष, कोह, प्रतिघात.
347 कीर्ति यश, प्रसिद्धि.
348 ऋषि मुनि, साधु, यति, संन्यासी, तत्वज्ञ, तपस्वी.
349 कच बाल, केश, कुन्तल, चिकुर, अलक, रोम, शिरोरूह.
350 कमल नलिन, अरविंद, उत्पल, राजीव, पद्म, पंकज, नीरज, सरोज, जलज, जलजात, शतदल, पुण्डरीक, इन्दीवर.
351 कबूतर कपोत, रक्तलोचन, पारावत.
352 कामदेव मदन, मनोज, अनंग, काम, रतिपति, पुष्पधन्वा, मन्मथ.
353 कण्ठ ग्रीवा, गर्दन, गला.
354 कृपा प्रसाद, करुणा, दया, अनुग्रह.
355 किताब पोथी, ग्रन्थ, पुस्तक.
356 किनारा तीर, कूल, कगार, तट.
357 कपड़ा चीर, वसन, पट, वस्त्र, परिधान.
358 किरण ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति.
359 खग पक्षी, विहग, नभचर, अण्डज, पखेरू.
360 खंभा स्तूप, स्तम्भ, खंभ.
361 खल दुर्जन, दुष्ट, घूर्त, कुटिल.
362 खून रक्त, लहू, शोणित, रुधिर.
363 गज हाथी, हस्ती, मतंग, कूम्भा, मदकल .
364 गाय गौ, धेनु, भद्रा.
365 गंगा देवनदी, मंदाकिनी, भगीरथी, विश्नुपगा, देवपगा, देवनदी, जाह्नवी, त्रिपथगा.
366 गणेश विनायक, गजानन, गौरीनंदन, गणपति, गणनायक, शंकरसुवन, लम्बोदर, एकदन्त.
367 गृह घर, सदन, भवन, धाम, निकेतन, निवास, आलय, आवास.
368 गर्मी ताप, ग्रीष्म, ऊष्मा, गरमी.
369 गुरु शिक्षक, आचार्य, उपाध्याय.
370 घट घड़ा, कलश, कुम्भ, निप.
371 घर आलय, आवास, गृह, निकेतन, निवास, भवन, वास, वास
372 घृत घी, अमृत, नवनीत.
373 घास तृण, दूर्वा, दूब, कुश.
374 चरण पद, पग, पाँव, पैर, पाद.
375 चतुर विज्ञ, निपुण, नागर, पटु, कुशल, दक्ष, प्रवीण, योग्य.
376 चंद्रमा चाँद, चन्द्र, शशि, रजनीश, निशानाथ, सोम, कलानिधि.
377 चाँदनी चन्द्रिका, कौमुदी, ज्योत्सना, चन्द्रमरीचि, उजियारी, चन्द्रप्रभा, जुन्हाई.
378 चाँदी रजत, सौध, रूपा, रूपक, रौप्य, चन्द्रहास.
379 चोटी मूर्धा, सानु, शृंग.
380 छतरी छत्र, छाता.
381 छली छलिया, कपटी, धोखेबाज.
382 छवि शोभा, सौंदर्य, कान्ति, प्रभा.
383 छानबीन जाँच, पूछताछ, खोज, अन्वेषण, शोध.
384 छैला सजीला, बाँका, शौकीन.
385 छोर नोक, कोर, किनारा, सिरा.
386 जल सलिल, वारि, नीर, तोय, अम्बु, पानी, पय, पेय.
387 जगत संसार, विश्व, जग, भव, दुनिया, लोक.
388 जीभ रसज्ञा, जिह्वा, वाणी, वाचा, जबान.
389 जंगल कानन, वन, अरण्य, गहन, कांतार, बीहड़, विटप.
390 जेवर गहना, अलंकार, भूषण.
391 ज्योति आभा, छवि, द्युति, दीप्ति, प्रभा.
392 झूठ असत्य, मिथ्या.
393 तरुवर वृक्ष, पेड़, द्रुम, तरु, पादप.
394 तलवार असि, कृपाण, करवाल, चन्द्रहास.
395 तालाब सरोवर, जलाशय, पुष्कर, पोखरा.
396 तीर शर, बाण, अनी, सायक.
397 दास सेवक, नौकर, चाकर, अनुचर, भृत्य.
398 दधि दही, गोरस, मट्ठा.
399 दरिद्र निर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन.
400 दिन दिवस, याम, दिवा, वार.
401 दीन ग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल.
402 दीपक दीप, दीया, प्रदीप.
403 दुःख पीड़ा,कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, शोक, खेद, पीर.
404 दूध दुग्ध, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य.
405 दुष्ट पापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर.
406 दाँत दन्त.
407 दर्पण शीशा, आरसी, आईना.
408 दुर्गा चंडिका, भवानी, कल्याणी, महागौरी, कालिका, शिवा, चण्डी, चामुण्डा.
409 देवता सुर, देव.
410 देह काया, तन, शरीर.
411 धन दौलत, संपत्ति, सम्पदा, वित्त.
412 धरती धरा, धरती, वसुधा, ज़मीन, पृथ्वी, भू, भूमि, धरणी, वसुंधरा, अचला, मही, रत्नगर्भा.
413 धनुष चाप, शरासन, कमान, कोदंड, धनु.
414 नदी सरिता, तटिनी, सरि, सारंग, तरंगिणी, दरिया, निर्झरिणी.
415 नया नूतन, नव, नवीन, नव्य.
416 नाव नौका, तरणी, तरी.
417 पवन वायु, हवा, समीर, वात, मारुत, अनिल.
418 पहाड़ पर्वत, गिरि, अचल, शैल, भूधर, महीधर.
419 पक्षी खेचर, दविज, पतंग, पंछी, खग, चिड़िया, गगनचर, पखेरू, विहंग, नभचर.
420 पति स्वामी, प्राणाधार, प्राणप्रिय, प्राणेश.
421 पत्नी भार्या, वधू, वामा, अर्धांगिनी, सहधर्मिणी, गृहणी, बहु, वनिता, दारा, जोरू, वामांगिनी.
422 पुत्र बेटा, आत्मज, सुत, वत्स, तनुज, तनय, नंदन.
423 पुत्री बेटी, आत्मजा, तनूजा, सुता, तनया.
424 पुष्प फूल, सुमन, कुसुम, मंजरी, प्रसून.
425 फूल पुष्प, सुमन, कुसुम, गुल, प्रसून.
426 बादल मेघ, घन, जलधर, जलद, वारिद, पयोधर.
427 बालू रेत, बालुका, सैकत.
428 बन्दर वानर, कपि, हरि.
429 बिजली घनप्रिया, इन्द्र्वज्र, चंचला, सौदामनी, चपला, दामिनी, तड़ित, विद्युत.
430 बगीचा बाग़, वाटिका, उपवन, उद्यान, फुलवारी, बगिया.
431 बाण सर, तीर, सायक, विशिख.
432 बाल कच, केश, चिकुर, चूल.
433 ब्रह्मा विधाता, स्वयंभू, प्रजापति, पितामह, चतुरानन, विरंचि, अज.
434 बलदेव बलराम, बलभद्र, हलायुध, रोहिणेय.
435 बहुत अनेक, अतीव, अति, बहुल, प्रचुर, अपरिमित, प्रभूत, अपार, अमित, अत्यन्त, असंख्य.
436 ब्राह्मण द्विज, भूदेव, विप्र, महीदेव, भूमिसुर, भूमिदेव.
437 भय भीति, डर, विभीषिका.
438 भाई तात, अनुज, अग्रज, भ्राता, भ्रातृ.
439 भूषण जेवर, गहना, आभूषण, अलंकार.
440 भौंरा मधुप, मधुकर, द्विरेप, अलि, षट्पद, भृंग, भ्रमर.
441 मनुष्य आदमी, नर, मानव, मानुष, मनुज.
442 मदिरा शराब, हाला, आसव, मद.
443 मोर कलापी, नीलकंठ, नर्तकप्रिय.
444 मधु शहद, रसा, शहद.
445 मृग हिरण, सारंग, कृष्णसार.
446 मछली मीन, मत्स्य, जलजीवन, शफरी, मकर.
447 माता जननी, माँ, अंबा, जनयत्री, अम्मा.
448 मित्र सखा, सहचर, साथी, दोस्त.
449 यम सूर्यपुत्र, जीवितेश, कृतांत, अन्तक, दण्डधर, कीनाश, यमराज.
450 यमुना कालिन्दी, सूर्यसुता, रवितनया, तरणि
451 युवति युवती, सुन्दरी, श्यामा, किशोरी, तरुणी, नवयौवना.
452 रमा इन्दिरा, हरिप्रिया, श्री, लक्ष्मी, कमला, पद्मा, पद्मासना, समुद्रजा, श्रीभार्गवी, क्षीरोदतनया.
453 रात रात्रि, रैन, रजनी, निशा, यामिनी, निशि, यामा, विभावरी.
454 राजा नृप, नृपति, भूपति, नरपति, भूपाल, नरेश, महीपति, अवनीपति.
455 रात्रि निशा, रैन, रात, यामिनी, शर्वरी, तमस्विनी, विभावरी.
456 रामचन्द्र सीतापति, राघव, रघुपति, रघुवर, रघुनाथ, रघुराज, रघुवीर, जानकीवल्लभ, कौशल्यानन्दन.
457 रावण दशानन, लंकेश, लंकापति, दशशीश, दशकंध.
458 राधिका राधा, ब्रजरानी, हरिप्रिया, वृषभानुजा.
459 लड़का बालक, शिशु, सुत, किशोर, कुमार.
460 लड़की बालिका, कुमारी, सुता, किशोरी, बाला, कन्या.
461 लक्ष्मी कमला, पद्मा, रमा, हरिप्रिया, श्री, इंदिरा, पद्मजा, सिन्धुसुता, कमलासना.
462 लक्ष्मण लखन, शेषावतार, सौमित्र, रामानुज, शेष.
463 लौह अयस, लोहा, सार.
464 लता बल्लरी, बल्ली, बेली.
465 वायु हवा, पवन, समीर, अनिल, वात, मारुत.
466 वसन अम्बर, वस्त्र, परिधान, पट, चीर.
467 विधवा अनाथा, पतिहीना.
468 विष ज़हर, हलाहल, गरल, कालकूट.
469 वृक्ष पेड़, पादप, विटप, तरू, गाछ, दरख्त, शाखी, विटप, द्रुम.
470 विष्णु नारायण, चक्रपाणी.
471 विश्व जगत, जग, भव, संसार, लोक, दुनिया.
472 विद्युत चपला, चंचला, दामिनी, सौदामिनी, तड़ित, बीजुरी, घनवल्ली, क्षणप्रभा, करका.
473 बारिश वर्षण, वृष्टि, वर्षा, पावस, बरसात.
474 वीर्य जीवन, सार, तेज, शुक्र, बीज.
475 वज्र कुलिस, पवि, अशनि, दभोलि.
476 विशाल विराट, दीर्घ, वृहत, बड़ा, महान.
477 वृक्ष गाछ, तरु, पेड़, द्रुम, पादप, विटप, शाखी.
478 शिव भोलेनाथ, शम्भू, त्रिलोचन, महादेव, नीलकंठ, शंकर.
479 शरीर देह, तनु, काया, कलेवर, अंग, गात.
480 शत्रु रिपु, दुश्मन, अमित्र, वैरी, अरि, विपक्षी.
481 सीता वैदेही, जानकी, भूमिजा, जनकतनया, जनकनन्दिनी, रामप्रिया.
482 शिक्षक गुरु, अध्यापक, आचार्य, उपाध्याय.
483 शेर केहरि, केशरी, वनराज, सिंह.
484 शेषनाग अहि, नाग, भुजंग, व्याल, उरग, पन्नग, फणीश, सारंग.
485 शुभ्र गौर, श्वेत, अमल, वलक्ष, शुक्ल, अवदात.
486 शहद पुष्परस, मधु, आसव, रस, मकरन्द.
487 षंड हीजड़ा, नपुंसक, नामर्द.
488 षडानन षटमुख, कार्तिकेय, षाण्मातुर.
489 साँप अहि, भुजंग, ब्याल, सर्प, नाग, विषधर, उरग, पवनासन.
490 सूर्य रवि, सूरज, दिनकर, प्रभाकर, आदित्य, दिनेश, भास्कर, दिनकर, दिवाकर, भानु, आदित्य.
491 समूह दल, झुंड, समुदाय, टोली, जत्था, मण्डली, वृंद, गण, पुंज, संघ, समुच्चय.
492 सभा अधिवेशन, संगीति, परिषद, बैठक, महासभा.
493 सुन्दर कलित, ललाम, मंजुल, रुचिर, चारु, रम्य, मनोहर, सुहावना, चित्ताकर्षक, रमणीक, कमनीय, उत्कृष्ट, उत्तम, सुरम्य.
494 सन्ध्या सायंकाल, शाम, साँझ, प्रदोषकाल, गोधूलि.
495 संसार जग, विश्व, जगत, लोक, दुनिया.
496 सोना स्वर्ण, कंचन, कनक, हेम, कुंदन.
497 सिंह केसरी, शेर, मृगपति, वनराज, शार्दूल, नाहर, सारंग, मृगराज.
498 समुद्र सागर, पयोधि, उदधि, पारावार, नदीश, जलधि, सिंधु, रत्नाकर, वारिधि.
499 सम सर्व, समस्त, सम्पूर्ण, पूर्ण, समग्र, अखिल, निखिल.
500 समीप सन्निकट, आसन्न, निकट, पास.
501 स्त्री सुन्दरी, कान्ता, कलत्र, वनिता, नारी, महिला, अबला, ललना, औरत, कामिनी, रमणी.
502 सुगंधि सौरभ, सुरभि, महक, खुशबू.
503 स्वर्ग सुरलोक, देवलोक, दिव्यधाम, ब्रह्मधाम, द्यौ, परमधाम, त्रिदिव, दयुलोक.
504 स्वर्ण सुवर्ण, कंचन, हेन, हारक, जातरूप, सोना, तामरस, हिरण्य.
505 सरस्वती गिरा, शारदा, भारती, वीणापाणि, विमला, वागीश, वागेश्वरी.
506 सहेली आली, सखी, सहचरी, सजनी, सैरन्ध्री.
507 संसार लोक, जग, जहान, जगत, विश्व.
508 हनुमान पवनसुत, पवनकुमार, महावीर, रामदूत, मारुततनय, अंजनीपुत्र, आंजनेय, कपीश्वर, केशरीनंदन, बजरंगबली, मारुति.
509 हिमांशु हिमकर, निशाकर, क्षपानाथ, चन्द्रमा, चन्द्र, निशिपति.
510 हंस कलकंठ, मराल, सिपपक्ष, मानसौक.
511 हृदय छाती, वक्ष, वक्षस्थल, हिय, उर.
512 हाथ हस्त, कर, पाणि.
513 हाथी हस्ती, कुंजर, कूम्भा, मतंग, वारण, गज, द्विप, करी, मदकल.
514 हस्त हाथ, कर, पाणि, बाहु, भुजा.
515 हिमालय हिमगिरी, हिमाचल, गिरिराज, पर्वतराज, नगेश.
516 हिरण सुरभी, कुरग, मृग, सारंग, हिरन.
517 होंठ अक्षर, ओष्ठ, ओंठ.

अगर आपको किसी और Paryayvachi Shabd का मतलब पता करना हो तो हमें कमेंट में अपना शब्द बताये।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: if you want to copy please mail me