Moral Stories in Hindi For Class 8 With Pictures – हिंदी में नैतिक कहानियां

अगर आप हिंदी में नैतिक कहानियां पढ़ना चाहते है और अपने बच्चो को भी ये Moral Stories सुना सकते हैं। आजकल हम इंटरनेट के युग में कहानियों का महत्व खो चुके है हम आपके लिए लाये है Moral Stories in Hindi जो आपके बच्चों के लिए लाये है बहुत अच्छी अच्छी कहानियाँ जो उनमे नयी सोच को जन्म देंगी

Moral Stories in Hindi For Class 8: आदमी की शान

आदमी की शान

शहर का काजी जो भी नया नौकर रखता था उसके सामने यह शर्त रखता था कि यदि नौकरी छोड़कर जाएगा तो उसके नाक-कान काट लिए जाएंगे। यदि वह स्वयं उसे नौकरी से हटाएगा तो उसे हक होगा कि वह उसके नाक-कान काट ले।

वह कई लोगों के साथ पहले भी ऐसा कर चुका था। इधर शेखचिल्ली नौकरी की खोज में कई दिनों से इधरउधर भटक रहा था। तभी रास्ते में उसे उसके तीन मित्र मिलेउनके नाक-कान कटे देखकर उसने कारण पूछा तो उन्होंने सबकुछ बता दिया। मित्रों के मना करने पर भी उसने उस काजी के यहां नौकरी करने की ठान ली।

 

Also Read: Mulla Nasruddin Stories in Hindi

 

अगले दिन जब वह काजी के घर गया तो काजी ने उसे भी वही शर्त ! बता दी। शेखचिल्ली ने उसकी शर्त स्वीकार कर ली। तब काजी ने उसे काम समझाते हुए कहा कि तुम्हें बीस बीघा खेत जोतना होगाचूल्हा जलाने के लिए लकड़ियां लानी होंगी और रात्रि-भोजन के लिए शिकार मारकर लाना होगा।

ध्यान कि ये सारे तक हो जाने चाहिए। जब तुम घर लौटोगे रहे काम दोपहर तब बेगम तुम्हें रोटी और दही की मटकी देगी। रोटी तुम्हें ऐसे खानी है कि वह छोटी न हो और दही ऐसे पीना है कि मटकी का मुह न खुले।
दसरे दिन से शेखचिल्ली हल और बैल लेकर खेत जोतने लगा।

उसके पीछेपीछे काजी की कुतिया भी चल पड़ी। खेत में जाकर उसने पेड़ के -गड्ढे खोद पासपास दिए। चूल्हा जलाने के लिए हल को तोड़कर लकड़ियां इकट्ठी कर लीं। शिकार के रूप में काजी की कुतिया को ही मार लाया। ये सारे काम करके वह दोपहर से पहले ही घर लौट आया।

उसे आयादेखकर काजी और बेगम दोनों ही आश्चर्यचकित रह गए। काजी ने जब जल्दी आने का कारण पूछा तो शेखचिल्ली ने सबकुछ बता दिया।
इस पर काजी क्रोधित होकर बोला, “चलनिकल मेरे घर से।” तब शेखचिल्ली बोला ठीक है, शर्त के मुताबिक लाइए अपने नाक-कान। ” काजी सहम गया। इतनी क्षति होने पर भी उसे खून का पूंट पीकर पड़ा।
रह जाना अब शर्त के अनुसार बेगम ने उसे रोटी और दही की मटकी दी।

 

Also Read: Desh Bhakti Kahani in Hindi Lanuage – desh bhakti Story

 

शेखचिल्ली ने रोटी-मटकी ले ली। शर्त उसे याद थी। उसने रोटी को बीच से खाना शुरू कर दिया
और मटकी के नीचे छेद करके सारा दही भी पी गया। इस तरह न रोटी छोटी हुई और न मटकी का मुंह ही खुला।यह सब देखकर काजी बड़ा विचलित हुआ। उसने सोचा कि यह तो कोई पहुंचा शैतान लगता है।

नाक-कान लेकर ही जाएगा। फिर वह शेखचिल्ली के कदमों में गिरकर गिड़गिड़ाने लगा, “शेख चिल्ली मुझे
माफ करतू यहां से निकल जा। नाक-कान की जगह तू जितना चाहे धन ले ले, क्योंकि नाक-कान के बिना आदमी की शान चली जाती है।” “और तुमने जिन लोगों के नाक-कान काटे क्या उनकी कोई शान नहीं थी?”

“ भैया, मैं बेहद शर्मिदा हूं।”

“अच्छा, एक काम करा कि मुझे सालभर की तनख्वाह दो और वचन दो कि भविष्य में अन्य किसी के साथ ऐसा बर्ताव नहीं करोगे।”

कथा-सार

दूसरों के कष्ट में व्यक्ति संवेदना तो व्यक्त करता है, लेकिन पीड़ा का अनुभव नहीं करता। पीड़ा तो तभी होती है जब खुद पर गुजरती है।

 

Moral Stories No 2 : सियार और सिंह

 

एक दिन एक भूखे सियार का एक सिंह से सामना हो गया। सिंह को देखकर सियार की सिट्टीपिट्टी गुम हो गई। उसने किसी तरह डरते-डरते कहा”हे जंगल के राजा! मुझे अपनी शरण में ले लो। मैं आपकी हर आज्ञा मागूंगा।”
सिह को उस पर दया आ गईवह बोला, “ठीक है, चलो मेरे साथ रहो।

 

Also Read: 1000+ हिंदी मुहावरे और अर्थ

 

अगर तुम मेरा कहना मानते रहे तो खाने-पीने की पूरी मौज रहेगी” “आपका हुक्म सिर माथे पर।” सियार ने शीश नवाकर कहा “अब मेरी बात ध्यान से सुनो। तुम्हें रोज पहाड़ की चोटी पर जाकर देखना होगा कि नीचे घाटी में कोई जानवर घूमफिर रहा है या नहीं।

यदि कोई जानवर नजर आए तो मुझे आकर बताओगे और कहोगे, ‘दमको पूरी शक्ति से हे सिंहराज’ उसके बाद जब में जानवर को मारकर भरपेट भोजन कर यूंगा। तब बचा हुआ भाग तुम खाओगे” “जैसी आपकी आज्ञा।” सियार बोला। ”

अगले दिन सियार पहाड़ की चोटी की ओर चल दिया। उसकी निगाह एक हाथी पर जा पड़ी। वह सिंह के पास दौड़कर आया और दंडवत होकर बोला, “मैंने एक हाथी देखा है। दमको पूरी शक्ति से हे सिंहराज!”
सिंह ने हाथी का शिकार किया और भरपेट खाया।

फिर उसके बाद सियार ने भी खाया। इसी तरह से दिन बीतते चले गए। सियार काफी मोटा-तगड़ा हो गया, किंतु
उसकी विनम्रता घटती गई। एक दिन वह सोचने लगा, ‘मैं जूठन से क्यों अपना पेट भरू, मैं भी तो चौपाया जीव हूं। मैं खुद भी हाथियों और भैसों का शिकार कर सकता हूं।

आखिर सिंह को अपना सारा बल जादू के इस मंत्र ‘दमको पूरी शक्ति से हे सिंहराज।’ से ही तो मिलता है। उसने सिंह से प्रार्थना की, हुजूर! आपकी जूठन खाते हुए मुझे काफी समय बीत गया है।

अब में खुद शिकार करक हाथी खाना चाहता हूं।” सिंह कुछ देर तक सोचता रहा और फिर बोला, “यह तेरे बस का काम नहीं है।
में जा शिकार करता हूं उसे खाकर ही तू मस्त रह। ‘नहीं स्वामी! कृपया एक बार मुझे मौका तो दीजिए। इस बार मैं यहां रुकूगा और आप पहाड़ की चोटी पर जाएंगे और जब आपको कोई हाथी दिखाई दे तब आकर मुझसे कहिए ‘दमको पूरी शक्ति से हे सियार!’ मैं जरूर उसका शिकार कर ढूंगा।”

सिंह ने काफी समझाया, किंतु सियार नहीं माना। आखिरकार सिंह राजी हो गया। कुछ देर बाद सिंह वापस आया“मुझे अभी-अभी एक हाथी इधर आता दिखाई दिया है। दमको पूरी शक्ति से हे सियार”

सियार फुर्ती से चल दिया और हाथी के सामने जा पहुंचा। ‘अभी उसकी गरदन | दबाकर उसका काम तमाम करता हूं।’ यह सोचकर उसने हाथा पर छलांग लगा दी, किंतु वह चूक गया। फलस्वरूप मदमस्त हाथी उसे केंदता हुआ आगे बढ़ गया। इस तरह वह मूर्ख सियार अपने प्राणों से हाथ धो बैठा।

Also Read: lokoktiyan in Hindi

 

 

कथा-सार

कुछ करने से पहले अपनी ताकत का अनुमान लगा लेना चाहिएकोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहिए जो प्रकृति के विरुद्ध हो। जैसे सियार का यह सोचना कि वह हाथी को मार डालेगा। इसमें अपनी ही हानि है। जिसका काम
उसी को साजे, और करे तो मूरख बा।

 

Moral Stories No 3: अनमोल चिड़िया

चारों ओर पहाड़ों से घिरा हुआ एक वन था। उस वन में पीपल का एक वृक्ष भी था। उस वृक्ष पर एक विचित्र चिड़िया रहती थी जो स्वर्णिम विष्ठा (बीट) करती थी, अर्थात् विष्ठा के रूप में वह स्वर्ण निष्कासित करती थी। उसकी विष्ठा धरती पर गिरते ही स्वर्ण में बदल जाया करती थी।

एक बूढ़े व्याध ने जब अपनी आंखों से इस आश्चर्य को देखा तो उसे अपनी आंखों पर विश्वास ही नहीं हुआ।


वह सोचने लगा कि यह कैसे संभव हो सकता है कि एक जंगली चिड़िया की विष्ठा धरती पर गिरते ही स्वर्ग में परिवर्तित हो जाए। लेकिन उसके सामने तो प्रत्यक्ष और प्रमाण दोनों ही मौजूद थे, इसलिए उसे विश्वास करना ही पड़ा

 

व्याध सोचने लगा कि अगर यह चिड़िया मेरे जाल में फंस जाए तो मैं मालामाल हो जाऊंगा। इस चिड़िया को खूब खिलाऊंगा ताकि यह ज्यादा-से-ज्यादा स्वर्णिम विष्ठा करेयह विचारकर व्याघ ने पीपल के उस वृक्ष पर अपना जाल डाल दिया और चिड़िया के फसने की प्रतीक्षा करने लगा।

चिड़िया ने वृक्ष पर पड़े जाल को नहीं देखा और उसमें फंस गईव्याध चिड़िया को अपने अधिकार में लेकर खुशी-खुशी घर की ओर चल दिया। परंतु अचानक ही उसके बढ़ते कदम रुक गए। वह सोचने चिड़िया विचित्र और स्वर्ण विष्ठा लगा..यह करने वाली अवश्य है, लेकिन यह किसी भूतप्रेत अथवा पिशाच का रूप हुई तो कहीं मैं धनवान होने के बजाय किसी संकट में न फंस जाऊं।

काफी देर सोच-विचार करने के बाद व्याध ने यह निष्कर्ष निकाला कि इस चिड़िया को घर न ले जाकर
राजा को दे दें और पुरस्कार प्राप्त कर लू। उसके दिमाग (8 में यह विचार आते ही वह राजमहल की ओर चल दिया।

राजमहल में पहुंचकर वह राजा से बोला, “महाराजयह एक विचित्र चिड़िया है। इसकी विष्ठा धरती पर गिरते ही सोने की हो जाती है। इसलिए मैंने सोचा कि इसे अपने अधिकार में लेकर आपको दे दें, ताकि इसकी स्वर्णिम विष्ठा से राजकोष में बढोतरी हो।”

 

राजा चिडिया उस को पाकर बहुत खुश हुआ और उसने व्याध को बहुत-सा धन पुरस्कार के रूप में प्रदान किया। राजा ने अपने सेवकों को बुलाकर कहा, “यह चिड़िया अनमोल है। इसकी देखभाल में कोई कमी न रहने पाए।”

सेवकों ने राजा का आदेश मानकर उस चिड़िया को एक सुंदर से पिंजरे में कद कर दिया और उसके खाने-पीने का सामान भी उसमें रख दिया। उस विचित्र चिडिया के विषय में जब मंत्री को पता चला तो उसने राजा के पास जाकर निवेदन  किया“महाराजवह व्याध इस जंगली चिड़िया को अनमोल और सोने की विष्ठा करने वाली बताकर आपको मूर्ख बना गया। अगर यह सोने की विष्ठा करने वाली होती तो वह व्याध स्वय इसे पालकर धनवान न बन जाता।”


राजा का मंत्री की बातों में सच्चाई नजर आई और उसने अपने सेवकों को बुलवाकर उस चिड़िया को बंधनमुक्त करने का आदेश दे दिया।

 

बंधनमुक्त होते ही चिड़िया अपने निवास पर पहुंचकर कहने लगी, “पहले तो व्याघ के जाल में फंसने वाली पूर्व में ही थी। दूसरा मूर्ख व्याघ था जिसने हाथ में आया भाग्य राजा को सौंप दिया। पहले व्याघ के और फिर के
मंत्री कहने में आने वाला राजा और बिना जांच किए मुझे बंधनमुक्त कराने वाला मंत्री भी मू था। लगता है इस धरती पर मूखे-ही-मूर्ख भरे पड़े हैं।”

फिर वह चिड़िया खुशी से पीपल के उस वृक्ष पर एक डाल से दूसरी डाल पर फुदकती हुई उड़ान भरने लगी।

कथा-सार।

वह में आते – व्यक्ति मूखर्षों की श्रेणी हैं जो बिना जांचेपरखे लोगों की बातों । में आकर अपने भाग्य को अपने हाथों से गंवा देते हैं, जैसा कि इस कथा में | पहले व्याघ ने और फिर मंत्री के कहने में आकर राजा ने किया।

 

Moral Stories No 3: नटखट चुन्नु

 

नटखट चुन्नू नन्हा-सा चूजा था। वह सारे दिन इधर-उधर फुदकता रहता था। उसकी मां अक्सर उसे समझाती थी कि अकेले इधर-उधर मत घूमा करो कभी | भी किसी मुसीबत में पड़ सकते हो, पर चुन्नू कहां मानने वाला था।

एक दिन चुन्नू अपनी मा के साथ दाना चुग रहा था। दाना चुगते-चुगते वह अपनी मां से नजर बचाकर थोड़ी दूर निकल गया।वहां उसे मटर के कुछ दाने बिखरे दिखाई दिए। वह अपनी छोटी-सी चोंच से छीलकर मटर के दाने खाने लगा।

तभी मटर का एक दाना अचानक उसके गल में अटक गयाऐसा होने पर चुन्नू बड़ा परेशान हुआ। उसने उस दाने को निगलने या उगलने की बड़ी कोशिश की, लेकिन सफल न हो सका।

अब चुन्नू रोने लगा। कुछ देर में उसकी मा भी उसे खोजते-खोजते वहां । आ पहुंची। जब उसे पता चला कि चुन्नू के गले में मटर का दाना फंस गया है तो व। भी बहुत परेशान हुई। उसने अपनी चोंच से उस दाने को निकालने की कोशिश भी । की, लेकिन चोंच बडी होने के कारण सफलता नहीं मिली।

तब मुर्गी को अपने मित्र बगुले की याद आई। वह दौड़ी-दौड़ी बगुले के पास गई और उसे अपनी विपदा सुनाई।

बगुला तुरंत मुर्गी के साथ आया और उसने अपनी लंबी से चोंच चुन्नू के गले में फसे मटर के दाने को निकाल दिया।

मटर का दाना निकलने से चुन्नू की जान-में-जान आईउसने अपनी मां से। माफी मांगी और कहा, “मां, अब मैं कभी भी शरारत नहीं करूगा और आपका कहा मानूगा।

मुर्गी उसे प्यार से पुचकारते हुए अपने साथ ले गई। उसे पता था कि अब चुन्नू सचमुच शरारत नहीं करेगा।

कथा-सार

यह ठीक है कि बचपन शरारत करने के लिए ही होता है, लेकिन ऐसी भी क्या शरारत कि जान पर आ बने।
माता-पिता तथा बड़े-बुजुर्गों की बातों को सुनकर टालना नहीं चाहिए। वे जो कुछ भी कहते हैं वह हमारी भलाई के लिए ही होता है। चूजे को भी यह बात समझ में आ गई थी, परंतु कुछ कष्ट सहने के बाद ही।

 

Also Read:

The Author

Romi Sinha

I love to write on JoblooYou can Download Ganesha, Sai Ram, Lord Shiva & Other Indian God Images

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jobloo.in © 2018
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.