Hindi Short Stories With Moral Value शिक्षाप्रद कहानियाँ 2018 !

दोस्तों आज में आपके लिए और आपके प्यारे बच्चो के लिए हिंदी की छोटी छोटी कहानिया जो आपको कुछ न कुछ जरूर सीखेँगे। ये कहानियाँ सिर्फ और सिर्फ छोटे बच्चो के लिए है। हो सके तो अपने बच्चो को रोज एक नयी कहानी सुनाये जिससे उनके सोचने और कल्पना करने का विकास होगा और अपनी परीक्षा में अच्छे नंबर लाएगा। चलो पढ़ते है Hindi Short Stories With Moral Value सिर्फ अपनी मातरभाषा में 

 

Hindi Short Stories No. 1 चालाक भेड़िया

 

किसी वन में वज़दूष्ट्र नामक एक शेर रहता था। चतुरक और क्रव्यमुख नामक सियार और भेड़िया उसके बड़े ही आज्ञाकारी सेवक थे। एक दिन शेर ने ऊंटनी का शिकार किया। दुर्भाग्यवश वह ऊंटनी गर्भवती थी। पेट फटते ही उसका बच्चा बाहर निकल आया। बच्चे को देखकर शेर का दिल भर आया उसके मन में ऊंटनी के बच्चे के प्रति इतना स्नेह उत्पन्न हुआ कि वह उसे अपने घर ले आया और उसका नाम शंकुक रखकर उसका पालन-पोषण करने लगा।

Also Read: Hindi Story For Kids With Moral

 

 

धीरे-धीरे समय बीतता चला गया और गुजरते वक्त के साथ-साथ ऊट का बच्चा है | जवान भी हो गया। संयोगवश एक दिन शेर का एक हाथी से सामना हो गया। हाथी ने अपने दांतों के प्रहार से उसे इतना घायल कर दिया कि वह उठने-बैठने -यहां तक कि चलने-फिरने और शिकार करने में भी असमर्थ हो गया

भूख से व्याकुल शेर ने एक दिन अपने सेवकों से कहा “साथियो! किसी ऐसे पशु को खोजकर लाओ जिसका शिकार में इस असहाय अवस्था में भी कर सकू।” अपने स्वामी के आदेश को शिरोधार्य करके दोनों सेवक वन के एक कोने से दूसरे कोने तक भटकते रहे, परंतु उन्हें ऐसा कोई प्राणी नहीं मिला जिसका सिंह बैठे बैठे ही शिकार निराश सेवकों ने लौटकर अपनी असफलता से अपने कर सक।

Also Read:  Short Story For Kids

स्वामी शेर को अवगत कराया। दूसरे दिन चतुरक ने अपने साथी क्रव्यमुख से कहा”इस प्रकार भूखे रहकर
तो एक दिन हम सब मर जाएंगे। मेरे दिमाग में एक योजना है। अगर सिंह उसे कार्यरूप देने को तैयार हो जाए।”
“कैसी योजना?” क्रव्यमुख ने पूछा।

“यदि शंकुकर्ण का वध कर दिया जाए तो कुछ दिनों के भोजन की व्यवस्था हो सकती है।” चतुरक ने अपनी योजना बताते हुए कहा। तुम ठीक कहते हो चतुरक, इसके सिवा हमारे पास और कोई चारा भी तो नहीं है।”थे

“तब तक शायद हमारा स्वामी स्वस्थ होकर शिकार करने की स्थिति में आ जाएगा।” चतुरक ने अपने साथी की योजना का समर्थन करते हुए कहा।

* लेकिन.” क्रव्यमुख के चेहरे पर अचानक गंभीरता छा गई।

“लेकिन यह क्या मित्र?”

“आपका सुझाव तो उत्तम है और स्थिति को देखते हुए हमारे अनुकूल भी है , मगर हमारे स्वामी का कुकर्ण के प्रति इतना अधिक स्नेह है कि वह उसके वध के लिए तैयार नहीं होगा।” क्रव्यमुख ने निराश स्वर में कहा इस बात को तो मैं भी अच्छी प्रकार समझता हूं, लेकिन भूख व्यक्ति को सबकुछ करने पर विवश कर देती है। किसी को भी अपने प्राणों से अधिक प्रिय और कुछ नहीं होता।

इस प्रकार सोच-विचार करने के बाद दोनों शेर के पास जाकर बोले, “राजन्! यदि आपको अपने प्राणों से मोह है तो शंकुकर्ण के वध का प्रस्ताव स्वीकार कर ।

 

लीजिएअन्यथा भूख की व्याकुलता के कारण आप और हम यमलोक की ओर प्रस्थान कर जाएग। ‘यदि शंकुकर्ण स्वेच्छा से आत्मसमर्पण करता है तो मैं उसके वध के प्रस्ताव पर विचार कर सकता हूं। अगर वह ऐसा नहीं करता है तो चाहे में भूख से तड़प-तड़पकर मर जाऊं, पर उसका वध नहीं करूगा।” सिंह ने बेहद धीमे स्वर में कहा।
सिंह की अनुमति प्राप्त कर लेने के बाद दोनों शंकुकर्ण के पास चिंतित मुद्रा में आए और कहने लगे, “मित्र! हमारा  स्वामी भोजन न मिलने के कारण इतना असमर्थ हो गया है कि वह उठ भी नहीं सकता। उसके घाव भी नहीं भर पा रहे हैं।

 

Also Read: Short Stories in Hindi 

 

मैं स्वामी के हित के लिए ही तुमसे कुछ कह रहा हूं, तुम इसे अन्यथा मत लेना। “बंधुवर! स्वामी के लिए मैं कुछ भी करने के लिए तैयार हूं। शायद मैं उनके किसी काम आकर पुण्य का भागी बन सकू।” शंकुकर्ण ने सहज भाव से कहा इस समय स्वामी के प्राणों पर संकट आ पड़ा है। तुम अपने शरीर को समर्पित करके स्वामी की प्राण-रक्षा के पुण्य भागी बन सकते हो।

 

मैं हर प्रकार से तैयार हूं।” शंकुकर्ण ने अपनी स्वीकृति दी। उसकी स्वीकृति पाते ही दोनों शंकुकर्ण को शेर के पास ले गए। सिंह के पास पहुंचकर शंकुकर्ण ने निवेदन कियास्वामी! में अपने धर्म का पालन करने के लिए अपना शरीर सहर्ष आपको समर्पित करता हूं।

यह जीवन आप ही का तो दिया हुआ है। अब आप मेरे इस नश्वर शरीर से अपने और अपने सेवकों के प्राणों की रक्षा करें।” सिंह की स्वीकृति मिलते ही दोनों ने उस ऊंट को फाड़ डाला। शंकुकर्ण के वध के बाद सिंह ने चतुरक से कहा”मैं नदी में स्नान करके आता हूं तब तक तुम इस मांस की सावधानी से देखभाल करना।

 

सिंह के जाते ही चतुरक सोचने लगा कि कोई ऐसी युक्ति निकाली जाए जिससे सारे मांस पर मेरा ही अधिकार हो जाए। कुछ देर सोचने के बाद अपने साथी क्रव्यमुख को बुलाकर वह बोला, मित्र! आप बहुत ही ज्यादा भूख से पीड़ित नजर आते हैं।

इसलिए जब तक सिंह नहीं लौटतातब तक इस बढ़िया मांस को खाने का आनंद प्राप्त कर लें। स्वामी के आने पर मैं उनसे निबट लूगा।

 

क्रव्यमुख भूख स व्याकुल तो था ही, अत: उसने जैसे ही खाने के लिए मुंह खोला, चतुरक ने उसे स्वामी के आने की सूचना दी और भागकर कहीं छिप जाने के लिए कहा। क्रव्यमुख भयभीत होकर भाग गया और पास ही झाड़ियों में जा छिपा।

सिंह ने वहां आते ही मांस को देखा और घायल होने के बावजूद तेज स्वर में दहाड़ते हुए बोलाकिसने मेरे भोजन को जूठा किया है?”

दहाड़ सुनकर क्रव्यमुख भय से कांपने लगापरंतु चतुक ने कहा, “मित्र! मन पहले ही तुमसे कहा था कि स्वामी स्नान करने गए हैं उनके खाने को जूटा मत , लेकिन तुम अपनी भूख पर संयम नहीं रख सके। अब इसका परिणाम भुगतो।

” चतुक के वचन सुनकर क्रव्यमुख अपने प्राण संकट में देख वहां से भाग खड़ा हुआ। सिंह जैसे ही भोजन करने बैठा कि उसने एक भारी की आवाज सुनी।

घट कुछ ही दूरी पर ऊंटों का एक काफिला गुजर रहा था और आगे वाले ऊंट के गले में घंटा लटक रहा था ताकि उसके चलने से होने वाली आवाज को सुनकर दूसरे ऊंट सही दिशा में चल सकें।

ने चतुरक से तुरंत उस घंटे की आवाज के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए कहा। चतुरक थोड़ी दूर जाकर लौट आया और सिंह से बोला, “महाराज! यहां से तत्काल भाग जाएं।

आप पर भारी संकट आनेवाला है। जल्दी कीजिएसमय बहुत कम है।” “स्पष्ट रूप से बताआ, आने वाला वह संकट कोन-सा है?” सिंह ने भयभीत हाकर पूछा।

Also Read: Desh Bhakti Kahani in Hindi Lanuage

 

“राजन! आपने असमय ऊंट का वध किया है। इसकी शिकायत ऊंटों ने यमराज से की है। वह आप पर क्रद्ध हो गए हैं। वे ऊंटों के सामने आपको दंड देने के लिए ऊंटों के विशाल फ्रेंड के साथ इधर ही आ रहे हैं।

उन्होंने एक ऊंट के गले में घंटा बांध रखा है, ताकि आप यह जान लें कि धर्मराज किसी को भी किसी के प्रति अन्याय की अनुमति नहीं देते।”
चतरक की बात सुनते ही सिंह वहां से भाग गया और उसके बाद चतुरक कई दिनों तक उस शिकार का आनंद लेता रहा।

कथासार ।

धर्त प्राणी अपनी कूटनीतिक चालों से दूसरों को हानि पहुंचाकर भी स्वयं सामने नहीं आताचतुरक सियार अपने नाम के अनुरूप चतुर व धूर्त था, तभी तो उसने अपने स्वामी सिंह व मित्र भेड़िए को छल-कपट द्वारा शिकार
से वंचित कर दिया। के

 

Hindi Short Stories No. 2 झूठ के पैर नहीं होते

 

किसी गांव में दीनू नाम का एक लोहार अपने परिवार के साथ रहता था। उसके एक पुत्र था जिसका नाम शामू था। जैसे जैसे शामू बड़ा होता जा रहा था। उसके दिल में अपने पुश्तैनी धंधे के प्रति नफरत बढ़ती जा रही थी।
शामू के व्यक्तित्व की एक विशेषता यह थी कि उसके माथे पर गहरे घाव का निशान था जो दूर से ही दिखाई देता था।

जब शामू युवा हो गया तो एक दिन वह अपने पिता से बोला, “बापू! मैं यह लोहा लूटने और धौंकनी चलाने का काम नहीं कर सकतामैं तो राजा की सेना में जाना चाहता हूं। सुना है कि सैनिकों के ठाट-बाट निराले ही होते हैं।”
दीनू ने अपने पुत्र की बात सुनी तो माथा पीटकर रह गया। वह बोला, “बेटा! यह तो संभव ही नहीं है।

Also Read: 1000+ हिंदी मुहावरे और अर्थ 

 

 

तुम्हें शायद पता नहीं कि हमारे राज्य के कानून ने केवल क्षत्रियों को ही सेना में प्रवेश करने का अधिकार दिया है। फिर तुम सेना में कैसे जा पाओगे?”

 

Hindi Short Stories With Moral Value

 

“बापू! इसकी चिंता आप न करेंइसका मैंने उपाय खोज लिया है। मैं राजा को अपनी जाति बताऊंगा ही नहीं, बल्कि कह डंगा कि मैं शूरवीरों का वंशज हूं।” शामू पिता को समझाते हुए बोला। दीनू ने उसे बहुत समझाया, झूठ बोलने के दुष्परिणामों का भय दिखाया, लेकिन वह न माना और सेना में प्रवेश पाने के लिए
शहर की ओर चल दिया

उस समय वहा रिपुदमन नामक राजा राज करता था। शामू ने राजा के सम्मुख पहुंचकर अभिवादन किया और अपने आने का मंतव्य बताया। राजा ने जब उसके माथे पर घाव का निशान देखा | । तो सोचा कि युवक तो पराक्रमी लगता है, शायद किसी युद्ध में इसके माथे पर यह घाव लगा होगा।

Also Read: Poem on Nature in Hindi

“नाम क्या है तुम्हारा?” राजा ने पूछा। “ज…जी भयंकर सिंह।” शामू ने जवाब दिया। किस जाति-वंश के हो?”

 

Hindi Short Stories With Moral Value

 

शशूरवीरों के वंश से हूं।” शामू फिर सफेद झूठ बोल गया। रिपुदमन उसकी बातों से बहुत प्रभावित हुआ और उसे सेना में प्रवेश मिल गया। अब शामू को अच्छा वेतन और सुखसुविधाएं मिलने लगीं।

सब कुछ ठीक-ठाक ही चल रहा था कि एक दिन पड़ोसी देश के राजा ने रिपुदमन के राज्य पर हमला बोल दिया।
रिपुदमन की सेना जब मैदान में उतरी तो उसके पांव उखड़ते देर न लगी।

सैनिकों की हार की बात सुनकर रिपुदमन के क्रोध की सीमा न रही। उसने तुरंत शामू को, जो भयंकर सिंह के छद्म नाम से सेना में आया था, बुला भेजा।

 

 

Hindi Short Stories With Moral Value

 

उसके आते ही रिपुदमन ने कहा, “राज्य पर शत्रु ने आक्रमण कर दिया है। हमारी सेना पीछे हट रही है। तुम जाओ और शत्रुओं का संहार करके अपने नाम को सार्थक करो”

राजा की बात सुनते ही शामू के तो होश ही उड़ गएवह हकलाता-सा बोल I उठा, “म.महाराजमैं कुछ कहना चाहता हूं।”

 

Also Read: Thought of the day in Hindi

 

“जो कुछ कहना है, जल्दी कहो और युद्ध क्षेत्र की ओर प्रस्थान ” राजा करो के स्वर में क्रोध भर आया था।
“महाराज! मैं शूरवीरों के वंश का नहीं हूं। युद्धक्षेत्र में जाने की बात तो दूर, मैं  तो युद्ध के नाम से कांप उठता हूं।”

 

यह सुनकर राजा रिपुदमन का क्रोध भड़क उठा। उसने उसी क्षण उसे मृत्युदंड  की सजा सुनाते हुए फौरन तलवार से उसकी गरदन काट दी।

 कथा-सार Moral Value

कहावत है कि काठ की हांड़ी एक ही बार आंच पर चढ़ पाती है। शामू सेना में जाना चाहता था, पर उसके अंतर्मन में वीरता नहीं थी। यही कारण था कि उसका झूठ पकड़ा गया। याद रखें! एक झूठ को छिपाने के लिए सौ
झूठ बोलने पड़ते हैं, फिर भी वह पकड़ा जाता है, क्योंकि झूठ के पैर नहीं होते।

कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता।

 

 

Hindi Short Stories No. 3: जादुई डंडा

 

एक खरगोश बेहद आलसी और कामचोर था। एक बार वह पेड़ के नीचे बैठा। था। वहीं एक डंडा भी पड़ा था। खरगोश ने वह डंडा उठा लिया और उसे जमीन पर मारने लगा। जमीन पर डंडा मारते हुए वह सोच रहा था कि काश!

मुझे ढेर सारी गाजरें मिल जातीं। अभी उसने यह बात सोची ही थी कि वहां गाजरों का ढेर लग गयाइतनी सारी गाजरें देखकर खरगोश सोचने लगा’

कहीं यह जादुई डंडा तो न नहीं है। ‘

उसने डडे को पुन: आजमाने के लिए जमीन पर मारा और कहा, मुझे हरीहरी घास खाने को चाहिए” खरगोश के कहने की देर थी कि वहां हरी घास का गट्ठर आ गया। खरगोश को यकीन हो गया कि यह जादुई डंडा ही है।

खरगोश के तो अब दिन ही फिर गएवह सारे दिन खाता और सोता। एक दिन उसके मन में ख्याल आया कि उसके पास खाने की भले ही कोई कमी नहीं है, किंतु वह बड़े जानवरों से असुरक्षित है। वह काफी देर तक सोचता रहा।

फिर उसके दिमाग में एक बात आई। उसने डंडे को जमीन पर मारा और कहा “मुझे शेर बना दो और जगल के राजा शेर को खरगोश।

” पलक झपकते ही खरगोश शेर बन गया। शेर बनते ही वह खरगोश शेर की गुफा में गया और वहां शेर से खरगोश बने शेर को भगा दिया और उसमें स्वयं रहने लगा।

 

अब वह खरगोश स्वयं को सुरक्षित महसूस कर रहा था। चूंकि वह खरगोश केवल जादू के असर से शेर बना हुआ था, अत: सारे दिन गाजर खाता और सोता।
उधर चापलूस लोमड़ी ने देखा कि शेर तो गुफा से बाहर ही नहीं निकल रहा है तो उसे बड़ी चिंता हुई, क्योंकि वह तो शेर के सहारे ही अपना भोजन जुटाती
थी। शेर जिस भी जानवर का शिकार करता उसका बचा-खुचा हिस्सा लोमड़ी को ही मिलता था।

अंतत: जब लोमड़ी से रहा न गया तो वह शेर से मिलने उसकी गुफा में गई और उसे शिकार पर चलने को कहा, पर वहां असल शेर तो था ही नहीं, अत:
उसने अंदर से ही लोमड़ी को भगा दिया।

लोमड़ी को तो अपनी भूख मिटानी ही थी। वह दूसरे शेर को जंगल में बुला लाई। तब जंगल के सभी जानवर अपने शेर के पास गए।
अब शर बना वह खरगोश डर गया। वह भला असली शर को कस भगाता।

उसने उस वक्त तो सभी जानवरों को आश्वासन देकर वापस भेज दिया। जब सब जानवर चले गए तब खरगोश ने सोचा कि अपने वास्तविक रूप में ही
जीवन व्यतीत करना बेहतर है। जो काम शेर का है वह शेर ही कर सकता है।

उसने जादुई डंडे को जमीन पर मारा और स्वयं को वापस खरगोश और शेर को शेर के रूप में बनाने को कहा खरगोश बनते ही वह शेर की गुफा से तेजी से निकल और अपने साथी भागा खरगोशों के झुंड में ही रहने लगा।

कथा-सार Moral Value

प्रकृति की लीला विचित्र है। उसने हर कार्य के नियमसिद्धांत तय कर रखे हैं। जो भी इसके विरुद्ध काम करता है उसे दंड भोगना ही पड़ता है। खरगोश
ने भी इस नियम को भंग किया और जब इसके कुफल सामने आए तो तौबा कर ली।

Hindi Short Stories No.नंदीश्वर 

 

एक बार पडित परमसुख को दानस्वरूप एक बछड़ा मिला। उसने बछड़े का नाम ‘नंदीश्वर’ रखा और प्यार से लालन-पोषण करके उसे तंदरुस्त बैल बना दिया। बैल भी
परमसुख का काफी ख्याल रखता था, क्योंकि उसने उसे पिता समान प्यार दिया था।

एक दिन बैल ने परमसुख से कहा कि वह नगर के व्यापारी के पास जाकर कहे कि उसका बैल से लदी पचास गाड़ियां एकसाथ खींच सकता है। यदि माल व्यापारी विश्वास न करे तो दो हजार स्वर्ण मुद्राओं की शर्त लगा लेना।

Hindi Short Stories With Moral Value

Hindi Short Stories With Moral Value

परमसुख ने अपने बैल को अविश्वसनीय नजरों से देखा। उसे बैल की बातों पर विश्वास नहीं हुआ, क्योंकि पचास गाड़ियां एकसाथ खींचना असंभव काम था।

 

बैल ने फिर कहा”मालिक, आप मेरी बात पर यकीन करेंआप इस तरीके से धनवान बन सकते हैं। सकता परमसुख हैरत में पड़ गया। उसे विश्वास नहीं हो पा रहा था कि बैल भी बोल। है। फिर भी उसने बैल से पूछा”तुम्हें विश्वास है कि मैं शर्त जीत जाऊंगा?”

“बेशक! अगर मैं पचास गाड़ियां न खींच सकता होता तो ऐसी सलाह आपको कभी न देता।” बैल ने पूर्ण विश्वास के साथ कहा।

परमसुख एक व्यापारी के पास पहुंचा और उससे बोला, “महाशयबताइए इस नगर में किसका बैल सबसे ज्यादा गाड़ियां खींच सकता है?” बलवान वैसे तो कई बैल बहुत बलवान हैं, किंतु मेरे बैल जैसा पूरे नगर में शायद किसी के पास नहीं है।”

व्यापारी गर्व से बोला। अच्छामेरा बैल तो माल से लदी पचास गाड़ियां एकसाथ खींच सकता है। क्या आपका कर ?” बैल उसका मुकाबला सकता है

व्यापारी ने अट्टहास किया और बोला”क्यों मजाक करते हो भाई?” “मैं मजाक नहीं कर रहा हूं।” परमसुख ने दृढ़ स्वर में कहा

“नहीं हो सकताकोई भी बैल पचास गाड़ियां एक साथ असभव! यह कदाप नहीं खींच सकता।

” व्यापारी ने आश्चर्यपूर्ण स्वर में कहा “एक हजार स्वर्ण मुद्राओं की शर्त लगाकर देख लो।

अगर मेरे बैल ने पचास गाड़ियां एक साथ खींच दीं तो मैं शर्त जीत जाऊंगा। अगर न खींच पाया तो हार जाऊंगा।”

व्यापारी ने सोचा, ‘परमसुख पागल हो गया है।’

फिर भी उसने शर्त लगा ली। निश्चित समय पर कंकड़पत्थर और बालू से लदी पचास गाड़ियों के साथ कुछ ही देर में एक हजार स्वर्ण मुद्राएं मिल जाएंगी। इनके अलावा मेरे जीवनभर की बचत की एक हजार मुद्राएं मिलाकर मेरे पास दो हजार स्वर्ण मुद्राएं हो जाएंगी।

Hindi Short Stories With Moral Value
उन मुद्राओं से मैं और बहुत-से बैल खरीदूगा और शर्ते लगाया करूगा। फिर तो सारे नगर में मैं सबसे धनी आदमी बन जाऊंगा” मन-ही-मन खुश होते हुए उसने नंदीश्वर के गले में माला पहनाकर उसे सबसे आगे वाली गाड़ी में जोत दिया

‘चल, दुष्ट इन गाड़ियों को” हुए जल्दी खींच । बैल की कमर पर चाबुक मारते बोला।

अपने मालिक के ऐसे कड़वे बोल सुनकर बैल के दिल को ठेस पहुंचीउसने मन में सोचा यह मुझे अपशब्द है, ऐसा है तो मैं यहां से हिbगा भी नहीं। ‘कह रहा कुछ ही देर में परमसुख परेशान हो गया, इस नंदीश्वर को क्या हो गया है?

यह आज्ञा क्यों नहीं मान रहा? नतीजा मेरी ” उसने लाख प्रयत्न किए मगर वही ढाक के तीन पात। उधर व्यापारी फूला नहीं समाया, क्योंकि वह शर्त जीत चुका था, “हा..हा.हा!

मैं शर्त जीत गया, निकालो एक हजार स्वर्ण मुद्राएं।”

परमसुख को एक हजार स्वर्ण मुद्राएं उस व्यापारी को देनी पड़ीं। नंदीश्वर को लेकर वह थके कदमों से घर पहुंचा और निराश होकर बिस्तर पर पसर गया। “सो गए मालिक?” नंदीश्वर ने परमसुख से पूछा।

“मैं बरबाद हो गया..सो कैसे सकता हूं। काश! मैंने तुम्हारी बात न मानी होती।” परमसुख परेशान होकर बोला।

 

“आपने मुझे गाली क्यों दी थी? मैंने कभी कोई बरतन फोड़ा या किसी को सींग मारा या…।
“नहीं बेटा, तुमने ऐसा कभी कुछ नहीं किया। अब तुम यहां से चले जाओ।। परमसुख ने अनमने स्वर में कहा। जाआा नंदीश्वर को परमसुख पर दया आ गई। वह बोला, “कोई बात नहीं, फिर से शर्त लगा लो। इस बार दो हजार स्वर्ण मुद्राओं की शर्त लगाना। बस, एक बात। का ध्यान रखना कि मुझे अपशब्द न कहना।

परमसुख एक बार फिर शर्त लगाने की इच्छा से व्यापारी के पास पहुंचा और उसने दो हजार स्वर्ण मुद्राओं की शर्त लगाई।

“लगता है पंडितजी, एक बार शर्त हारने के बाद भी आपकी इच्छा पूरी नहीं हुई।” व्यापारी ने उपहास करते हुए कहा। इस बार मुझे जीत का पूरा विश्वास है, इसलिए मैं दो हजार स्वर्ण मुद्राओं की शर्त लगाता हूं।’

“दो हजार! ” व्यापारी कुछ देर सोचता रहा। फिर बोला”ठीक है, मुझे आपकी शर्त मंजूर है।” फिर पचास गाड़ियों में माल लादकर नंदीश्वर को जोता गया। परमसुख गाड़ी में बैठ गया और नंदीश्वर से बोला, मित्रचलो, गाड़ियां खींचो।” नंदीश्वर ने गाड़ियों को खींचना शुरू किया तो गाड़ियां खिंचती ही चली गईं

यह देखकर व्यापारी के होश उड़ गएवह बोला, “चमत्कार! सचमुच ही परमसुख का बैल सबसे ज्यादा ताकतवर है। ”

उसके बाद व्यापारी ने शर्त के अनुसार परमसुख को दो हजार स्वर्ण मुद्राएं दे दीं। स्वर्ण मुद्राए लेकर परमसुख प्रसन्न मुद्रा में घर पहुंचा। अब वह और अधिक
धनी हो गया था। वह अपना जीवन सुखपूर्वक बिताने लगा

कथा-सार

यह आपकी जुबान ही है जो किसी को मित्र तो किसी को शत्रु बना देती है। परमसुख ने जब कटु लहजे में बैल को आदेश दिया तो वह टस-सेमस न हुआ और वही बैल प्रेम से पुचकारने पर असंभव कार्य भी कर गया। मधुरभाषी बनकर कट्टर शत्रु पर भी विजय पाई जा सकती है।

 

The Author

Romi Sinha

I love to write on JoblooYou can Download Ganesha, Sai Ram, Lord Shiva & Other Indian God Images

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jobloo.in © 2018 About Us | Contact US |Privacy Policy |
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.