भारत में महिला शिक्षा पर निबंध – Essay on Nari Shiksha in Hindi

script async src="//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js">
भारत में महिला शिक्षा पर निबंध – Essay on Nari Shiksha in Hindi
Rate this post

हेलो दोस्तों आज फिर में आपके लिए लाया हु Essay on Nari Shiksha in Hindi पर पुरा आर्टिकल। Nari Shiksha नारी शिक्षा उतनी ही जरुरी है जितनी की पुरुष शिक्षा इसलिए अगर आप भी Nari Shiksha के बारे में बहुत कुछ जानना चाहते है तो हमारा आर्टिकल जरूर पढ़े।

आज के essay में आपकोNari Shiksha के बारे में बहुत बातें पता चलेंगे तो अगर आप अपने बच्चे के लिए Essay on Nari Shiksha in Hindi में ढूंढ रहे है तो हम आपके लिए india पर लाये है जो आपको बहुत अच्छा लगेगा। आईये पढ़ते है Essay on Nari Shiksha in Hindi

 

Essay on Nari Shiksha in Hindi

भारत में महिला शिक्षा पर निबंध – Essay on Nari Shiksha in Hindi

Also Read:

 

जहाँ तक शिक्षा का प्रश्न है यह तो नारी हो या पुरुष दोनों के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है। शिक्षा का कार्य तो व्यक्ति के विवेक को जगाकर उसे सही दिशा प्रदान करना है। शिक्षा सभी का समान रूप से हित-साधन किया करती है। परन्तु फिर भी भारत जैसे विकासशील देश में नारी की शिक्षा का महत्व इसलिए अधिक है कि वह देश की भावी पीढ़ी को योग्य बनाने के कार्य में उचित मार्गदर्शन कर सकती है। बच्चे सबसे अधिक माताओं के सम्पर्क में रहा करते हैं। माताओं के संस्कारोंव्यवहारों व शिक्षा का प्रभाव बच्चों के मनमस्तिष्क पर सबसे अधिक पड़ा करता है। शिक्षित माता ही बच्चों के कोमल व उर्वर मनमस्तिष्क में उन समस्त संस्कारों के बीज बो सकती है जो आगे चलकर अपने समाजदेश और राष्ट्र के उत्थान के लिए परम आवश्यक हुआ करते हैं।

Also Read:

नारी का कर्तव्य बच्चों के पालनपोषण करने के अतिरिक्त अपने घरपरिवार की व्यवस्था और संचालन करना भी होता है। एक शिक्षित और विकसित मन-मस्तिष्क वाली नारी अपनी आयपरिस्थिति, घर के प्रत्येक सदस्य की आवश्यकता आदि का ध्यान रखकर उचित व्यवस्था एवं संचालन कर सकती है। अशिक्षित पत्नी होने के कारण अधिकांश परिवार आज के युग में नरक के समान बनते जा रहे हैं। अतविद्वानों का कथन है कि गृहस्थी के कार्य को सुचारु रूप से चलाने के लिए शिक्षा की अत्यन्त आवश्यकता है।

विश्व की प्रगति शिक्षा के बल पर ही चरम सीमा तक पहुँच सकी है। विश्व। संघर्ष को जीतने के लिए चरित्र-शस्त्र की आवयश्कता पड़ती है। यदि नारी जाति अशिक्षित हो, तो वह अपने जीवन को विश्व की गति के अनुकूल बनाने में सदा असमर्थ रही है। यदि वह शिक्षित हो जाए तो उसका पारिवारिक जीवन स्वर्गमय हो सकता है और उसके बाद देश, समाज और राष्ट्र की प्रगति में वह पुरुषों के साथ कन्धे-से-कन्धा मिलाकर चलने में समर्थ हो सकती है। भारतीय समाज में शिक्षित माता गुरु से भी बढ़ कर मानी जाती है, क्योंकि वह अपने पुत्र को महान से महान् बना सकती है।

Also Read:

आज स्वयं नारी समाज के सामने घरपरिवारपरिवेश-समाजरीति-नीतियों तथा परम्पराओं के नाम पर जो अनेक तरह की समस्याएँ उपस्थित हैं उनका निराकारण नारी-समाज हर प्रकार की शिक्षा के धन से सम्पन्न होकर ही कर सकती है। इन्हीं सब बुराइयों को दूर करने के लिए नारी शिक्षा अत्यन्त आवश्यक है। सुशिक्षा के द्वारा नारी जाति समाज में फैली कुरीतियों व कुप्रथाओं को मिटाकर अपने ऊपर लगे लांछनों का सहज ही निराकरण कर सकती है।

Also Read:

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: if you want to copy please mail me