Paheli or Paheliyan in Hindi with Answer – सारी नयी पहेलियाँ [ 50+]

पहेलियों का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। यद्यपि संस्कृत साहित्य पहेलियों से प्रोत है, किंतु आरंभ हिंदी में हुआ, प्रामाणिक ओतइनका कब इसका निर्धारित करना कठिन है। कुछ विद्वान ‘अमीर खुसरोंको हिंदी पहेलियों का
जनक मानते हैं, जिनका जन्म 1283 में हुआ था। ‘पहेली’ एक ऐसा शब्द है जिसे सुनने मात्र से रोमांच हो आता है।Paheli or Paheliyan in Hindi with Answer की पूरी जानकारी इस आर्टिकल में दी जाएगी आपको।

इसमें एक विशेष प्रकार का रहस्य-भरा रोमांचमधुर मनोरंजन और ज्ञान का भंडार समाहित रहता है। प्रत्येक पहेली के रहस्यमय शब्द-जाल में ही उसका उत्तर छिपा रहता है। जब कोई किसी से पहेली बूझता है तो वह पहेली के शब्द-जाल को सामने वाले पर उछाल देता है और यदि सामने वाला चतुरसुजान होता है तो वह पहेली बूझने वाले के शब्द-जाल से ही उसका उत्तर निकालकर उसे चौंका देता है। इस प्रकार इस खेल में न केवल पहेली बूझने वाले का ही मनोरंजन होता है, बल्कि उत्तर देने वाला भी भरपूर आनंद प्राप्त करता है। और साथ ही पहली बूझने वाले तथा उत्तर देने वालेदोनों के ही ज्ञान की भी परीक्षा हो जाती है। प्रस्तुत पुस्तक ‘700 पहेलियां’ में शिविका गुप्ता एवं छवि गुप्ता ने बच्चों तथा बड़ों के लिए सरल एवं कठिन सभी प्रकार की पहेलियों का बृहत संकलन किया है। इस संकलन में 700 से भी अधिक रोचक पहेलियां संकलित की गई हैं। इन पहेलियों से न केवल मनोरंजन ही होगा, बल्कि ये ज्ञानवर्द्धन में भी सहायक सिद्ध होंगी।

 

Also Read: 1000+ हिंदी मुहावरे और अर्थ – Hindi Muhavare With Meanings and Sentences

 

प्रस्तत प्रस्तक के संकलन में प्रत्येक पहेली के सामने पहेली से संबंधित चित्र दिया गया है। आप पहेली के चित्र को देखकर पहेली के हल को आसानी से गैस करें। प्रत्येक पहेली का उत्तर पुस्तक के अंत में पृष्ठ १४६
से १५८ तक उत्तरमाला में पहेली के क्रमानुसार दिया गया है। हम पूर्ण विश्वास है कि प्रस्तुत पुस्तक आपको रहस्य, रोमांच, ज्ञान तथा मनोरंजन की एक नई दुनिया की सैर कराएगी।

 

Paheliyan in Hindi with Answer:

 

Paheli No. 1

सिर छोटा और पेट बड़ा
तीन टांग पर आ रहे ए खड़ा।
खाता हवा और पीता तेल
फिर दिखलाता अपना खेल।

Paheli ka Answer : stove / स्टोव

Paheli No 2.
खाना कभी नहीं खाता वह,
और न पीता पानी।
उसकी बुद्धि के आगे तो,
हार माने हर ज्ञानी।

Paheli ka Answer : computer / कंप्यूटर 

 

Paheli No 3.
पानी  से में पैदा होता,
उजला मेरा रंग।
स्वाद बढ़ाता  घुलमिल
करके मैं भोजन के संग।

Paheli ka Answer : Namak/ नमक 

 

Paheli No 4.
खिलाड़ियों का महाकुंभ यह कहलाता,
चार वर्षों के अंतराल से यह आता।

Paheli ka Answer : olympic khel/ ओलम्पिक खेल

 

Paheli No 5.
काला है पर काग नहीं,
कहें नाग पर सांप नहीं।
एक हाथ पर पैर चार,
बतलाओ न कर सोचविचार।

Paheli ka Answer : hathi / हाथी 

Paheli No 6.

दे न सकेगा दान कोई भी,
जितना कि उसने दे डाला।
वाह !कि कलेजे का टुकड़ा-
बलिदान उसी ने कर डाला।

Paheli ka Answer : pannaday / पानदाय 

Paheli No 7. 
बचपन में बना वह शासक, ।
दुश्मनों को मार गिराया। )
पर गौरी ने धोखा देकर
तराईन ताल में पकड़वाया।

Paheli ka Answer : पृथ्वीराज चौहान

 

Also Read: Thoughts in Hindi on Life with Images [51+] Read Now !

 

Paheli No 8, 
धोखा दिया भाई ने फिर भी,
रुका नहीं वह वीर महान।
फिरा भटकता वन जंगल में,
प्यारा उसे था राजस्थान।

Paheli ka Answer : महाराणा प्रताप 

Paheli No 9. 

ईमानदार निष्ठावान
शौर्य की प्रतिमूर्ति।
स्वामी को राज दिलाया
नैतिकता की की रिहर महामूर्ति।

Paheli ka Answer : वीर दुर्गादास

Paheli No 10.
बताओ वह शहर
जहां पर आया था एक अंधा जवार ।
उग्रवाद से पलक मूंदते
11 खिलाड़ी हुवे शिकार

Paheli ka Answer : म्यूनिख प. जर्मनी 1972 

 

Paheli No 11.

निष्कासित था पांच वर्षों तक
वह जांबाज , खिलाड़ी,
पदक पड़ा लौटाने
उसने जीती बाजी हारी।

Paheli ka Answer : बेन जॉनसन

 

Paheli No 12.

कीर्तिमान बनाया
जीते सात पदक एक साथ।
अमरीका का रहने वाला
कौन था वह तैराक ?

Paheli ka Answer : मार्क स्पिट्ज

 

Paheli No 13.
वीर साहसी सुभट महान
सह न सका _ अपना अपमान।
लूट लिए मुगलों के प्रदेश,
याद करेगा अपना देश ।

Paheli ka Answer : शिवाजी

Paheli No 14.

छोड़ राजपाट जब राणा
जा रहे रानी सहित।
दे दिया सर्वस्व दान में
था वीर वह कपट रहित।

Paheli ka Answer : भामाशाह

Paheli No 15.

एक अनोखा है चौपाया.
भारी भरकम उसकी काया
नहीं सवारी का कुछ काम,
पानी ही है उसका धाम।

Paheli ka Answer :  दरियाई घोड़ा

Paheli No 16.
एक सींग का है चौपाया,
मोटी उसकी खाल।
और खाल से किसी जमाने में,
बनती थी ढाल।

Paheli ka Answer : गेंडा 

 

Also Read: Thought of the Day in Hindi for the School Assembly [30+]

 

Paheli No 17.

लंबी टांगें लंबी गर्दन
लेकिन जिराफ।
बेढब डीलडौल में सचमुच,
समझ गये क्या आप।

Paheli ka Answer :ऊंट

 

Paheli No 18. 
संग मदारी के वह आता
मक-ट्रमक कर नाच दिखाता ।
पड़ी नाक में बड़ी नकेल
खुश होकर सब देखें खेल।

Paheli ka Answer :  भालू

Paheli No 19.
सोने के पलनों में पला था,
लेकिन छोड दिया घरबार।
जैन धर्म के तीर्थकर बने
ल सारा संसार।

Paheli ka Answer : महावीर स्वामी

Paheli No 20.

वृद्ध पुरुष, रोगी, एक मृतक,
देखा एक संन्यासी को।
देखज्ञान की खोज में निकले
ज्ञान मिला पूर्णमासी को।

Paheli ka Answer :महात्मा बुद्ध

Paheli No 21.
अल्पायु में पिता चल बसे,
गया गए करने पिंडदान।
ईश्वरपुरी के शिष्य बन गए
मिला को आत्मज्ञान।

Paheli ka Answer : चतन्य महाप्रभु

 

Paheli No 22.

न हिन्दू थे न मुस्लिम थे,
समझे दोनों धर्म समान।
बचपन से बेटे संतों ,
बने अंत में संत महान।

Paheli ka Answer : कबीर

Paheli No 23.

दर्जी के घर पैदा हुए थे,
उन्ह पसद था जन म प्यार ।
भक्ति आंदोलन के प्रभु संत,
सिखा गए जीवन का सार।

Paheli ka Answer :नामदेव

Paheli No 24.
एक किले के द्वार अनेक,
रहने वाला_पर है ।
फिर भी बाहर सके न जाए,
जब से निकले दीवार गिराए।

Paheli ka Answer : मच्छरदानी

Paheli No 25.

पांच वृत्त ओलम्पिक का प्रतीक बनाते।
किन आदर्शों पर चलना वह हमें सिखाते?

Paheli ka Answer : विश्व शांति  

 

Trending Article:

 

The Author

Romi Sinha

I love to write on JoblooYou can Download Ganesha, Sai Ram, Lord Shiva & Other Indian God

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jobloo.in © 2017
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.