Jagdish Chandra Bose Biography in Hindi – जगदीश चन्द्र बसु का जीवन परिचय

नमस्कार, आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है। दोस्तों आज हम बात करेंगे एक ऐसे इंसान कि जो भारत के अलावा दूसरे देशों मई भी बहुत प्रसिद्ध हैं। सर जगदीश चंद्र बोस जो सबसे प्रसिद्ध और पहले भारतीय वैज्ञानिकों में से एक है। जिन्होंने प्रयोग से साबित किया है कि दोनों जानवरों और पौधों को बहुत सी मिलती जुलती चीज़ें हैं। तो दोस्तों आज मैं आपको इस आर्टिकल में बताऊंगा Jagdish Chandra Bose के बारे में। तो आइये जानते है Jagdish Chandra Bose biography in hindi.

 

जगदीश चन्द्र बसु का जीवन परिचय

जगदीश चंद्र बोस का जन्म 30 नवंबर 1858 को म्यांन्सिंग में जो अब बांग्लादेश में है में हुआ था। वह एक ऐसे परिवार से उभरा हुआ इंसान था जो शुद्ध भारतीय परंपराओं और संस्कृति के लिए प्रतिबद्ध
था।

उन्होंने एक क्षेत्रीय विद्यालय से अपनी प्राथमिक शिक्षा प्राप्त की, क्योंकि उनके पिता का यह मानना था कि बोस को अन्य विदेशी भाषाओ जैसे की अंग्रेज़ी का अध्ययन करने से पहले अपनी मातृभाषा, बंगाली सीखनी चाहिए।

बाद में उन्होंने कोलकाता के सेंट जेवियर्स स्कूल में अपना दाखिला करवाया और उसके बाद उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय के लिए प्रवेश परीक्षा को पास किया।

यह पहला ऐसा व्यक्ति था जो ये साबित कर पाया है कि पौधों में भी दर्द और स्नेह महसूस करने की क्षमता होती है।

Also Read: Thought of the Day in Hindi for the School Assembly [300+]

जगदीश चंद्र बोस एक भारतीय पालीमाथ थे, जिनकी खोज ने बॉटनी, फिजिक्स, आर्किओलोजी और रेडियो विज्ञान के क्षेत्र में बहुत बड़े योगदान दिए है। बोस को भारत का पहला आधुनिक वैज्ञानिक माना जाता है जिन्हे रॉयल इंस्टीट्यूट, लंदन से मान्यता प्राप्त हुई थी।

 

जहां पर प्रमुख ब्रिटिश वैज्ञानिक मौजूद हुआ करते थे और उनकी नवीनतम खोजों और आविष्कारों पर चर्चा करते थे। उन्हें भारत में एक्सपेरिमेंटल साइंस की नींव माना जाता है और वह माइक्रोवेव ऑप्टिक्स टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में खोज करने वाले पहले इंसान हैं।

 

उन्होंने एक गैलेन रिसीवर डिज़ाइन तैयार किया, जो की एक प्रमुख सल्फाइड फोटो संचालन डिवाइस का सबसे अच्छा उदाहरण था। एक युवा उम्र से ही उन्होंने विज्ञान के विषय में गहरी रुचि प्रदर्शित की और डॉक्टर बनने पर अपना सारा ध्यान लगा लिया।

जगदीश चंद्र बॉस एक बहुत ही दृढ़ और मेहनती व्यक्ति थे।

जगदीश चंद्र बोस भारतीय सिविल सेवा की परीक्षा का प्रयास करना कहते थे लेकिन उनके पिता ने जोर देकर कहा कि उन्हें अधिक विद्वानों का पीछा करना चाहिए।

इस प्रकार वह इंग्लैंड के लंदन विश्वविद्यालय में दवा का अध्ययन करने गए, लेकिन उनकी बीमार स्वास्थ्य की वजह से अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाई। उन्होंने 1884 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में प्राकृतिक विज्ञान का अध्ययन करने के लिए चले गए।

इसके बाद उन्होंने 1884 में लंदन विश्वविद्यालय से बीएससी को समाप्त कर दिया। केंब्रिज में, बोस ने प्रसिद्ध बंगाली केमिस्ट प्रफुल्ल चंद्र रॉय से मुलाकात की, जो एडिनबर्ग में एक छात्र थे और फिर 1887 में दोनों के बिच में एक करीबी आजीवन मित्रता विकसित हुई, वह एक प्रसिद्ध नारीवादी और सामाजिक कार्यकर्ता अबाला बोस से विवाह कर चुके थे। 1917 में बोस ने अपनी प्रोफेसरशिप को छोड़ दिया था और फिर उन्होंने कलकत्ता में बोस इंस्टीट्यूट की स्थापना की जो कि शुरू में पौधों के अध्ययन के लिए मुख्य रूप से समर्पित था।

वह बीस साल तक इस इंस्टिट्यूट के संचालक थे। उनकी सबसे बड़ी उपलब्धियों में से एक वायरलेस तकनीक और छोटे रेडियो तरंगों में शोध है। उन्होंने सार्वजनिक रूप से बंगाल के गवर्नर की उपस्थिति में 1895 में सार्वजनिक रेडियो का प्रदर्शन किया था।

 

Also Read: Thoughts in Hindi on Life with Images [51+] Read Now!

लेकिन इस खोज का श्रेय इटैलियन गुग्लिएलमो मार्कोनी को दिया गया, जिन्होंने 1897 में सिर्फ एक
प्रदर्शन किया था। उन्होंने कोहर के एक बेहतर प्रकाशन का भी आविष्कार किया जो रेडियो तरंगों का
पता लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला उपकरण है।

 

पेटेंटिंग के अपने स्वयं के हस्तक्षेप के बावजूद, वह अपने परिवार और दोस्तों के दबाव में आ गए और फिर उन्होंने अपना डिवाइस अमेरिका के पेटेंट के लिए पेश किया। यह इलेक्ट्रिकल गड़बड़ी के डिटेक्टर की खोज के लिए 29 मार्च 1904 को सफलतापूर्वक प्राप्त हुआ था, जिससे वो अमेरिकी पेटेंट प्राप्त करने वाले पहले भारतीय बन गए।

बोस ने खोज के एक अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र में पौधों के नर्वस सिस्टम का अध्ययन किया। उन्होंने इसका सफलतापूर्वक प्रदर्शन 10 मई 1901 को लंदन में रॉयल सोसाइटी के मुख्य हॉल में किया।

 

उन्होंने एक पौधे को एक जेहरीले घोल में डुबो दिया और फिर एक स्क्रीन पर उसकी कोशिकाओं की चाल को दिखाया, जिसमें दिखाया गया था कि वे हिंसक रूप से कापने लगे और फिर अचानक आये क्योंकि पौधा जहरीलेपन के कारण मर गया। उनकी खोज बेहद महत्वपूर्ण थी लेकिन शुरू में उनके बहुत से सहयोगियों ने इसका मजाक उड़ाया था।

हालांकि, उनका ये योगदान अब पूरी तरह से पूरे विश्व में स्वीकार किया गया है। क्रेस्कोग्राफ़ का उपयोग करते हुए, उन्होंने पौधों की उर्वरक, प्रकाश किरणों और वायरलेस तरंगों की प्रतिक्रिया की खोज की। इस साधन को सबकी प्रशंसा प्राप्त हुई, खासकर 1900 में, पाथ ऑफ़ कांग्रेस साइंस से।

कई फिजियोलॉजिस्ट ने बाद में अपने उच्च निष्कर्षों का समर्थन किया और फिर उन्होंने अधिक उच्च उपकरणों का उपयोग किया।
उन्होंने अपने आप को रिसर्च के क्षेत्र में और गहरा कर दिया और अपने रिसर्च के परिणामों को वैज्ञानिक विकास के लाभ के लिए सार्वजनिक कर दिया। एक वैज्ञानिक होने के साथ-साथ, वह एक प्रतिभाशाली लेखक भी थे जिन्होंने बांग्ला साइंस फिक्शन लिखने की प्राथमिकता तय की थी।

बोस ने कई पत्रिकाओं और पुस्तकों को प्रकाशित किया उनमें से दो शानदार पुस्तकें हैं; 'रिस्पांस इन द लिविंग एंड नॉन-लिविंग (1902) और द नर्वस मैकेनिज्म ऑफ़ प्लांट्स (1926) और फिजिक्स, रसायन विज्ञान
और माइक्रोबायोलॉजी जैसे विभिन्न क्षेत्रों में रिसर्च के लिए 1917 में बोस संस्थान की स्थापना की।

उनका 23 नवंबर, 19 37 को निधन हो गया और 1903 में भारतीय साम्राज्य के कम्पेनियन सहित कई सम्मान प्राप्त हुए, और 1920 में रॉयल सोसाइटी के फेलो और रेडियो टेक्नोलॉजी में उनके काम को 2012 में इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग में IEEE नामित किया गया।

तो दोस्तों आज मैंने आपको इस article मे बताया ज़िंदगी में प्रोत्साहन देने वाली Jagdish Chandra Bose biography in hindi. उम्मीद करता हूं दोस्तों कि आपको ये article पसंद आया होगा। आपको ये आर्टिकल केसा लगा आप इस बारे में comment ज़रूर करें। ऐसे और रोचक विषय के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़े रहें और हमारे article पढ़ते रहे।

 

The Author

Romi Sinha

I love to write on JoblooYou can Download Ganesha, Sai Ram, Lord Shiva & Other Indian God

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jobloo.in © 2017
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.