Bhagavad Gita Quotes in Hindi | श्रीमद्भगवद्गीता के अनमोल वचन

Bhagavat Gita Ke Quotes in Hindi: प्यारे दोस्तों , जीवन क्या है ? इस मानव शरीर का उद्येश्य क्या है? वह कोनसा सुख जिसके प्राप्त होने के बाद हमें कोई और सुख विचलित नहीं कर सकता ? क्या भगवन होते है ? अगर होते है तो दिखाई क्यों नहीं आते ? ऐसे अनेको प्रशन है , जिनका गूढ़ रहस्य हमें हमारे ऋषि मुनियों ने अनेको शास्त्रों मे वर्णन किया है ?  परन्तु , इस भौतिक युग मे इन्सान इतना वयस्त हो गया है और हम उस रास्ते पर चल रहे है जिसका कोई यथार्थ नहीं है ? इन सब प्रश्नो का उतर श्रीमद्धभगवत गीता मे भगवान श्री कृष्ण द्वारा अपने कोमल मुख से दिए है, आईये जानते है Bhagavat gita ke quotes hindi भाषा में

हमें अपने जीवन मे अपनाने चाहिए ,अगर जीवन को आनंद मय बनाना है ,तो आज हम bhagavat gita ke श्लोक के बारे मे पढ़ेंगे जो हमें नित्य पढ़ना चाहिए , जीवन मे हमें कम से कम एक बार श्रीमद्धभगवत गीता को सम्पूर्ण पढ़ना चाहिए ,आज हम हिन्दू धर्म के सभी शास्त्रों के कुछ शलोको को पढ़ेंगे जो जीवन मे ज़रूर अपनाने चाहिए
Rigveda , Yajurveda ,Samaveda , Atharvaveda , और Bhagavat gita ke quotes in hindi के श्लोको का सुमिरन करेंगे

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

Bhagavat Gita quotes in hindi from 6th lesson/ भागवत गीता सलोक छठे अध्याय

 

” श्री ” lord Krishna Images & Krishna Photos in HD Quality

सलोक 1.

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

 

सलोक 2.

Free Download Jesus Christ Pictures | Wallpaper of Jesus in Hd

 

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

सलोक 3. 

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

सलोक 4.

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

 

सलोक 5.

 

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

सलोक 6.

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

सलोक 7.

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

 

सलोक 8.

हिंदी में अनुवाद

 

सलोक 9.

 

हिंदी में अनुवाद

 

सलोक 10.

 

हिंदी में अनुवाद

 

सलोक 11.

हिंदी में अनुवाद

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Bhagavad Gita quotes

  •  कर्म न करने से, कर्म करना श्रेष्ठ हैं.
  • आसक्ति से कामना का जन्म होता हैं.
  • नैराश्यं परमं सुखम् (निराश परम सुख है.)
  • क्रोध से मुर्खता उत्पन्न होती हैं, मूढ़ता से भ्रान्ति, भ्रान्ति से बुध्दि का नाश, और बुध्दि के नाश से प्राणी का नाश होता हैं.
  •  असत का अस्तित्व नहीं है और सत का नाश नहीं है, नित्य रहने वाले देह की यह देह नाशवान कही गई है.
  •  कार्य में कुशलता का योग कहते है.
  •  सर्वत्र समभाव रखने वाला योगी अपने को सब भूतों में, और सब भूतों को अपने में देखता है.
  •  ईश्वर सब प्राणियों के ह्रदय में वास करता है, और अपनी माया के बल से उन्हें चाक पर चढ़े हुये घड़े की भांति घुमाता है.
  •  जो अपने हिस्से का काम किये बिना ही भोजन पाते है, वे चोर है.
  •  परमात्मा को प्राप्ति के इच्छुक ब्रम्हचर्य का पालन करते है.

 

 

3 Comments - Add Comment

  1. Dinesh Verma

Reply

Leave a Reply